बच्चो का पूछताछ केंद्र अध्याय -16 bachchon ka poochhtaachh Kendra chapter-16

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक

यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठय पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ पढ़ेंगे बच्चो का पूछताछ केंद्र –

सड़क के नुक्कड़ पर लकड़ी की एक छोटी-सी दुकान थी। उस पर पूछताछ केंद्र लिखा हुआ था। पूछताछ केंद्र में एक महिला बैठती थी। वह लोगों के उन सवालों के जवाब देती थी, जो उससे पूछे जाते थे। महिला प्रतिदिन दुकान पर बैठती थी, लेकिन एक दिन अचानक कहीं चली गयी और वह दुकान खाली हो गई ।
कुछ दिन दुकान खाली ही रही। एक दिन एक चंचल लड़की चीची सड़क पर घूम रही थी।

उसने खाली दुकान देखते ही पूछताछ केंद्र के ऊपर ‘बच्चों का’ शब्द लिख दिया और दुकान में जाकर बैठ गई। अब वह प्रतीक्षा करने लगी कि कोई आए और उससे सवाल पूछे।
सबसे पहले दो जुड़वाँ भाइयों ने बच्चों के पूछताछ केंद्र को देखा। वे उधर आए और चीची से पूछा
“अगर कोई पिता जी की घड़ी से खेल रहा हो और वह गिरकर टूट जाए तो क्या करना चाहिए ?” “पिता जी से पूछना चाहिए कि जब घड़ी नहीं थी
तब लोग समय कैसे मालूम करते थे।”
चीची की बात सुनकर भाइयों ने एक दूसरे की तरफ देखा और वहाँ से चले गए। उसके बाद सुनहरे बालों वाला एक बच्चा वहाँ आया और पूछने लगा “खरगोश किस तरह चिल्लाते हैं ?”

चीची ने जवाब दिया”खरगोश बिल्कुल नहीं चिल्लाते। वे धीरे-धीरे बातचीत किया करते हैं ।”
“क्यों ?” छोटे बच्चे ने आश्चर्य से पूछा ।

“क्योंकि उनको चिल्लाना पसंद नहीं” चीची ने बिल्कुल शांत भाव से उत्तर दिया। कुछ ही देर में बच्चों के पूछताछ केंद्र के सामने बच्चों की लंबी कतार लग गई।
एक लड़की ने पूछा – “एक साधारण कुत्ते को चतुर चालाक बनाने के लिए क्या-क्या सिखाना जरूरी है ?”
“कुछ खास नहीं, कुत्ते को स्वयं ही कड़ा अभ्यास करके चतुर चालाक बनने दो” चीची ने जवाब दिया।
बच्चे एक से एक सवाल कर रहे थे, लेकिन चीची जवाब देने में उनसे भी आगे थी । “चाँद रात में रोशनी देता है और सूरज दिन में, ऐसा क्यों ?” एक बच्चे ने पूछा। “यह उन्होंने आपस में तय कर रखा है,” चीची ने जवाब दिया ।
“वाह-वाह!” छात्र प्रसन्न हो गया ।

चश्मा लगाये हुए एक बहुत गंभीर-से दिखने वाले लड़के ने पूछा -“बड़ों को सब कुछ करने की स्वतंत्रता है, बच्चों को हर बात के लिए मना किया जाता है, ऐसा क्यों ?”


“यह प्रश्न गलत है। बड़ों को भी सब कुछ करने की स्वतंत्रता नहीं है” – चीची ने सख्ती से उत्तर दिया ।
“अभी मुझे एक सवाल और पूछना है” चश्मा लगाए हुए लड़के ने कहा ।
“अभी नहीं बाद में! एक बार में केवल एक ही सवाल। बाकी लोग भी हैं”, चीची बोली । “दीदी, जब रेलगाड़ी आती है तो सड़क का फाटक बंद क्यों कर दिया जाता है?” बड़ी-बड़ी आँखों वाले गोलू ने बेहद जिज्ञासा से पूछा ।
“जिससे रेलगाड़ी सड़क पर न आ जाए,” चीची ने तत्परता से कहा ।
तभी एक पहलवान-सा दिखने वाला लड़का आया ।
“क्या तुम तरबूज को एक ही बार में दाँत से काट सकती हो ?” उसने पूछा। “हाँ मैं काट सकती हूँ,” चीची ने कहा ।
“शर्त लगा लो तुम नहीं काट सकतीं !” … लड़का बोला

“शर्त लगाती हूँ।”
चीची पूछताछ केंद्र से बाहर निकली। पूछताछ केंद्र पर एक कागज लिखकर चिपका दिया- “पूछताछ केंद्र शर्त लगाने के लिए बंद है।’

अभ्यास

1-बोध प्रश्न उत्तर लिखिए-

(क) पूछताछ केंद्र को बच्चों का पूछताछ केंद्र बनाने के लिए चीची ने क्या किया ?

उत्तर –चीची ने पूछताछ केंद्र को बच्चों का पूछताछ केंद्र बनाने के लिए ऊपर बच्चों का शब्द लिख दिया|

(ख) खरगोश किस तरह चिल्लाते हैं ? इस प्रश्न का जवाब चीची ने क्या दिया ?

उत्तर – चीची ने प्रश्न का जवाब देते हुए कहा खरगोश बिल्कुल नहीं चिल्लाते हुए धीरे-धीरे बातचीत किया करते हैं |

(ग) जिससे रेलगाड़ी सड़क पर न आ जाए, यह उत्तर चीची ने किस प्रश्न का दिया ?

उत्तर -जब गोलू ने पूछा रेलगाड़ी आती है तो सड़क का फाटक बंद क्यों हो जाता है इसी प्रश्न का उत्तर चीची ने दिया |

(घ) चीची को पूछताछ केंद्र क्यों बंद करना पड़ा ?

उत्तर -यह पूछताछ केंद्र शर्त लगाने के लिए बंद किया|

2-खोजबीन-

(क) चीची से कुल कितने सवाल पूछे गए ?

उत्तर-चीची से कुल 10 सवाल पूछे गए|

(ख) कितने लोगों ने सवाल पूछा ?

उत्तर-चीची से कुल मिलाकर साथ लोगों ने सवाल पूछा|


(ग) क्या किसी ने दो सवाल भी पूछे ?

उत्तर-कई बच्चे एक से अधिक सवाल पूछे थे|


(घ) तुम्हें कौन-सा सवाल सबसे अच्छा लगा
?

उत्तर-चांद रात में रोशनी देता है और सूरज दिन में ऐसा क्यों यही सवाल मुझे सबसे अच्छा लगा|


(ङ) कौन-सा जवाब सबसे अच्छा लगा ?

उत्तर-रेलगाड़ी जब आती है तो सड़क का फाटक क्यों बंद कर दिया जाता है यह प्रश्न मुझे बेहद अच्छा लगा|

3-सोच विचार बताइए-

(क) आप बताइए की रेलगाड़ी के आने पर सड़क का फाटक क्यों बंद कर दिया जाता है?

रेलगाड़ी के आने पर सड़क का फाटक है इसलिए बंद कर दिया जाता है जिससे कोई भी रेलगाड़ी के सामने ना जाए|

(ख) चीची के सामने अगर आप होते तो क्या पूछते तीन सवाल लिखिए-

विद्यार्थी स्वयं अपने आप से लिखें-

(ग) बातचीत-

नीचे बातचीत के कुछ अंश दिए गए हैं लिखिए कि यह बातचीत किस-किस के बीच हो रही होगी?

1- क्यों भाई टमाटर किस भाव दिए हैं?

तीस रुपए किलो

पचीस रुपए किलो लगाओ

नहीं भाई इतने का तो मुझे भी नहीं पड़ा

सब्जी बेचने और खरीदने वाले के बीच में बात हो रही है

तुम्हें बुखार कब से आ रहा है?
कल रात से बहुत कँप कँपी भी आ रही है|
कोई बात नहीं 2 दिन की दवा दे रहा हूं परसों आकर हाल-चाल बताना
डॉक्टर और मरीज के बीच बात हो रही है

कल स्कूल क्यों नहीं आए थे जीतेंद्र?

कल मैं बुआ जी के घर गया था|

अरे !पर अचानक कैसे ?

मेरी फुफेरी बहन का जन्मदिन था|

वाह! अब तो खूब मजा आया होगा?

छात्र और शिक्षक के बीच|

घ)

कल स्कूल क्यों नहीं आए थे जीतेंद्र?

कल मैं बुआ जी के घर गया था|

अरे !पर अचानक कैसे?

मेरी फुफेरी बहन का जन्मदिन था|

वाह !तब तो खूब मजा आया होगा?

शिक्षक और छात्र के बीच

(घ) जब हम किसी से मिलते हैं तो कुछ प्रारंभिक बातचीत होती है|

जैसे-

अभिवादननमस्कार प्रणाम
कुछ सवालक्या हाल-चाल है
कुछ जवाबमैं अच्छा हूं घर से आ रहा हूं
कुछ आसपास की बातेंआज तो बहुत तेज गर्मी है
सोचिए और बताइए कि यह बातें हैं और किस-किस तरह की हो सकती है|

(ङ) नीचे दिए गए उत्तरों में दो-दो बात कही गई है उदाहरण के अनुसार ऐसे सवाल बनाया जो उन दोनों के बातों के बारे में हो

यह मेरी बहन है कक्षा 3 में पढ़ती है|

यह कौन है?

किस कक्षा में पढ़ती है ?

नीलम अगले महीने रजिया के घर जाएगी?

डेजी कल सुबह गोरखपुर से आई है?

जग्गी के घर में काले रंग की गए हैं?

4-भाषा के रंग-

(क)शब्द अंत्याक्षरी –

व्यवस्था -5-5 या 10-10 बच्चों की आमने-सामने खड़ी दो टोली, टोली के नाम स्कोरबोर्ड, निर्णायक ।

तरीका – दोनों टीमों में से किसी एक बच्चे द्वारा कोई शब्द बोले जाने पर दूसरी टीम के द्वारा उस शब्द के अंतिम अक्षर से शुरू होने वाले शब्द बोलना।

नियम – शब्द बोलते समय रुक जाने अथवा गलत बोलने पर शून्य अंक ।

दोनों के लगातार सही बोलते रहने पर 1-1 अंक ।

बोले गए शब्द के अंत में ‘ण’, ‘ड़’, तथा ‘ढ़’ आने पर क्रमश ‘न’, ‘ड’ और ‘ढ’ अक्षर से बनने वाले शब्द बोलना ।

(ख) ‘बा’ तथा ‘बे’ उर्दू के उपसर्ग (शब्दांश) हैं जो क्रमशः सहित और रहित (नहीं) का अर्थ देते हैं। ये शब्दांश शब्दों के पहले जुड़कर अर्थ बदल देते हैं उदाहरण के अनुसार इन्हें जोड़कर शब्द बनाइए

‘बा’‘बे’
बा + इज्जत = बाइज्जतबे +इज्जत=बेइज्जत
बा + कायदा= बाकायदा बे + कायदा = बेकायदा
बा + अदब =बाअदबबे + अदब= बेअदब
बा + दल= बादल बे +घर= बेघर
बा + जरा = बाजराबे +रहम = बेरहम

5-अब करने की बारी-


(क) साक्षात्कार रसोइया/सफाई कर्मी/पान विक्रेता/ किसान / रिक्शा चालक / राजमिस्त्री/फेरीवाला आदि में से किसी एक को चुनें। इनकी अपनी खुशियाँ हैं, दुख-दर्द हैं, काम-धाम हैं, घर-परिवार हैं। इनके बारे में जानने के लिए इनसे साक्षात्कार (बातचीत) करना एक सहज तरीका है।
दो-दो की टोलियों में इनके पास जाकर (इनके खाली समय में) सवालों को एक-एक कर के पूछिए। दूसरा साथी नोट करता रहे।
पूछे गए सवाल व बताए गए जवाब को समूहवार कक्षा में प्रस्तुत कीजिए ।

(ख) आपने रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन तथा अन्य जगहों पर ‘पूछताछ केंद्र’ देखा होगा । इसके अंदर बैठा व्यक्ति पूछने वाले को बस / रेल से संबंधित जानकारी देता है। कहाँ से कहाँ को? कितने बजे? कहाँ से मिलेगी? आदि । आप भी अपनी कक्षा में ‘बच्चों का पूछताछ केंद्र’ बनाइए। उसमें चीची की जगह किसी बच्चे को बैठाकर इस तरह के सवाल-जवाब कीजिए ।
उपरोक्त दोनों प्रश्नों को हल विद्यार्थी स्वयं करें

6-मेरे दो प्रश्न पाठ के आधार पर दो सवाल बनाएं-

1-बच्चों का पूछताछ केंद्र का स्थान कहां था?

2-पूछताछ केंद्र क्यों बंद करना पड़ा?

7-इस पाठ से-

(क) मैंने सीखा-

(ख) मैं करूंगी/करूंगा

यह अभी जानिए-

कुछ महत्त्वपूर्ण हेल्पलाइन नंबर

पुलिस हेल्पलाइन–100

एंबुलेंस हेल्पलाइन -102/108

रेलवे इंन्क्वारी -139

महिला हेल्पलाइन-1090/1091

फायर ब्रिगेड हेल्पलाइन -101

मेडिकल हेल्पलाइन -103

नेचुरल डिजास्टर हेल्पलाइन प्राकृतिक आपदा-1096

बाल हेल्पलाइन-1098

Leave a Comment