हिन्दी भाषा परिचय Hindi Bhasha

हिन्दी विश्व की लगभग 3000 भाषाओं में से है। यह भारत की बहुसंख्यक लोगों की भाषा है। इसका प्रारंभ 1000 ई०पू० में हुआ। यह यूरोपीय (Indo- European) परिवार की भाषा है। इसकी आदि जननी संस्कृत है। इस भाषा का जन्म वैदिक संस्कृत से हुआ है। हिन्दी विश्व में चीनी एवं अंग्रेजी के बाद तीसरे नम्बर की सबसे बड़ी भाषा है। यह भारत की राजभाषा के रूप में सरकारी काम काज की भाषा है तथा बहुसंख्यक लोगों की भाषा के रूप में भारत की राष्ट्रभाषा है।

  • हिन्दी भारत की राष्ट्रभाषा 1965 से है। 14 सितम्बर 1949 को भारतीय संविधान ने हिन्दी को भी संघ की राजभाषा के रूप में स्वीकार किया।
  • संविधान के अनुच्छेद- 343 के अनुसार संघ की राजभाषा हिन्दी और लिपि देवनागरी है।

हिन्दी भाषा का क्रम

हिन्दी को वैदिक संस्कृत से आधुनिक युग की भारतीय भाषाओं तक आने में निम्न चार चरणों से होकर गुजरना पड़ा

  • वैदिक संस्कृत (500 ई०पू० से 800 ई० पू० तक) जिसमें चार वेदों की रचना
  • लौकिक संस्कृत ( 800 ई०पू० से ) जिसमें रामायण, महाभारत आदि महाकाव्य लिखे गए।
  • पाली और प्राकृत लौकिक संस्कृत का परिवर्तित रूप है। इसमें बौद्ध साहित्य भी लिखा गया।
  • अपभ्रंश प्राकृत का परिवर्तित रूप देश में उस समय गैर-सेवी, मराठी, महाराष्ट्र आदि कई रूप प्रचलित थे।
  • नोट : इस विकास क्रम से स्पष्ट है कि द्रविड़ परिवार की तमिल, तेलुगु, मलयालम तथा कन्नड़ को छोड़कर भारत की सभी भाषाओं का विकास अपभ्रंश से हुआ।

मानक हिन्दी

  • मानक हिन्दी को परिनिष्ठित हिन्दी या स्टैण्डर्ड हिन्दी भी कहा जाता है। इसका मूल आधार खड़ी बोली है। वास्तव में मानक हिन्दी उस हिन्दी को कहते हैं जो हिन्दी क्षेत्र के नगरों में बोली जाने वाली सामान्य भाषा है। इसी भाषा में हिन्दी की पत्र-पत्रिकाएँ प्रकाशित होती हैं। यही मानक हिन्दी उच्च शिक्षा का माध्यम है तथा यही रेडियो एवं दूरदर्शन के हिन्दी कार्यक्रमों की भाषा है। वस्तुतः मानक हिन्दी को ही राजभाषा के रूप में संविधान ने स्वीकृति दी है। जब हम यह कहते है कि हमें दक्षिण भारत में हिन्दी का प्रचार-प्रसार करना चाहिए, तब हिन्दी से हमारा तात्पर्य मानक हिन्दी से होता है, न कि अवधी, ब्रज, बघेली या मैथिली से।

अन्य महत्त्वपूर्ण तथ्य

  • हिन्दी दिवस 14 सितम्बर को मनाया जाता है।
  • अंतराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस 21 फरवरी को मनाया जाता है।
  • भारत में अंग्रेजी को राजभाषा का दर्जा नागालैंड एवं मिजोरम में दिया गया है।
  • केन्द्रीय अंग्रेजी एवं हिन्दी भाषा संस्थान हैदराबाद में है ।
  • प्रथम हिन्दी सम्मेलन भारत में 1975 ई० में नागपुर में हुआ था।
  • हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने का विचार सर्वप्रथम बंगाल में उदित हुआ।
  • हिन्दी में आशुलिपि के जन्मदाता राधेलाल द्विवेदी है। हिन्दी का प्रथम बड़ा महाकाव्य ‘पद्मावत’ है।
  • संसार का सबसे बड़ा महाकाव्य ‘महाभारत’ है।
  • विश्व का आदि महाकाव्य ‘रामायण’ को तथा आदिकवि बाल्मिकी को माना जाता है।
  • भारत के प्रथम राष्ट्रकवि मैथलीशरण गुप्त है।
  • हिन्दी विषय पर प्रथम ज्ञानपीठ पुरस्कार ( चिदम्बरा हेतु) पाने वाले भारतीय सुमित्रानंदन पंत थे।
  • आधुनिक युग की मीरा महादेवी वर्मा को कहा जाता है।
  • हिन्दी साहित्य में सुकुमार कवि के नाम से सुमित्रानन्दन पंत जाने जाते है। आधुनिक युग का तुलसी मैथलीशरण गुप्त को कहा जाता है। हिन्दी का आदि कवियत्री मीराबाई को कहा जाता है।

Leave a Comment