कारक – Karak

कारकों का सामान्य परिचय उनके चिह्नों के साथ पिछली कक्षा में दिया जा चुका है। कुछ विशेष नियम नीचे दिये जा रहे हैं-


तृतीया


सहयुक्तेऽप्रधाने – सहार्थक शब्दों (सह, साकम् सार्धम् और समम्) के योग में अप्रधान कर्ता में तृतीया विभक्ति होती है, जैसे- शिष्यः गुरुणा सह विद्यालयं गच्छति ।रामः सीतया साकं वनम् अगच्छत् । हनुमान् वानरैः साकं सीताम् अन्वैषयत् ।

येनाङ्गविकारः – जिस अङ्ग से अङ्गी में विकार लक्षित होता है, उस अङ्गवाचक शब्द में तृतीया विभक्ति होती है, यथा- देवदत्तः नेत्रेण काणः अस्ति । मोहनः कर्णेन बधिरः अस्ति। रामनाथः शिरसा खल्वाटः अस्ति । शकुनिः पादेन खञ्जः अस्ति ।

चतुर्थी

रुच्यर्थानां प्रीयमाणः – रुच् तथा रुच् के अर्थ वाली धातुओं के योग में प्रसन्न होने वाले की सम्प्रदान संज्ञा होती है। अतः उसमे चतुर्थी विभक्ति होती है, जैसे- शिशवे क्रीडनकं रोचते । मह्यं मोदकं रोचते। छात्राय अध्ययनं रोचते ।


पञ्चमी


भीत्रार्थानां भयहेतुः – भयार्थक तथा रक्षार्थक धातुओं के साथ भय के कारण में पञ्चमी विभक्ति होती है, जैसे – बालकः सर्पाद् बिभेति । असज्जनात् कस्य भयं न जायते। सज्जनः दुष्टाद् बिभेति । त्रायते महतो भयात् ।

Leave a Comment