karmadharya Samas in Sanskrit कर्मधारय की परिभाषा व उदाहरण

karmadharya Samas in Sanskrit कर्मधारय समास

परिभाषा कर्मधारय समास में दोनों पद समान होते हैं । जिस समास में दोनों पदों की प्रधानता होती है उसे कर्मधारय समास कहते हैं । अर्थात् जिसमें दोनों शब्दों का समानाधिकरण हो ऐसा तत्पुरुष समास समानाधिकरण तत्पुरुष (कर्मधारय) समास कहलाता है ।

समास की परिभाषा :- दो या दो से अधिक शब्दों के मेल से उत्पन्न विकार को समास कहते है ।

समास के प्रकार :- समास मुख्य रूप से 5 प्रकार
के होते है | कर्मधारय और द्विगु समास तत्पुरुष | समास के ही उपभेद है |

  1. केवल समास
  2. अव्ययीभाव समास
  3. तत्पुरुष समास
  4. द्वन्द्व समास
  5. बहुव्रीहि समास
    कर्मधारय और द्विगु समास तत्पुरुष समास के ही
    उपभेद है ।

    कर्मधारय समास
    द्विगु समास

कर्मधारय समास

परिभाषा :- जब पूर्व पद और उत्तर पदों में विशेषण – विशेष्य अथवा उपमान- उपमेय का समाहार किया जाता है, तो उसे कर्मधारय समास कहते है
विशेषण – विशेष्य :- दोनों पद एक ही विभक्ति, वचन तथा लिंग में होते हैं ।

उपमान- उपमेय – जिससे तुलना की जाए, उस (उपमान) के बाद “इव” लिखना होता है तथा दोनों पदों की विभक्ति,वचन तथा लिंग एक समान होते हैं

समास युक्तसमास विग्रह हिन्दी अर्थ

नीलोत्पलम्
नीलम् उत्पलम्
नीला कमल
महापुरुष:
महान् पुरुषः
महान पुरुष
कृष्णवस्त्रम्
कृष्णं वस्त्रम्
काला वस्त्र
नतमस्तकम्
नतम् मस्तकम्
झुका हुआ
सिर
धीरपुरुष:
धीर: पुरुष:
धैर्यवान पुरुष
पीताम्बरम्
पीतम् अम्बरम्
पीला वस्त्र
कृष्णाननम्
कृष्णम् आननम्
काला मुख
कृष्णसर्प:
कृष्णः सर्प:काला सांप
महात्मा
महान् आत्मा
महान आत्मा
सुपुरुष:शोभन: पुरुष:
अच्छा आदमी
कुपुरुष:कुत्सित: पुरुष:बुरा आदमी
इव” के समान /जैसा के उदाहरण
घनश्यामः
घनः इव श्याम:
बादलों जैसा
काला
दुग्धधवलम्
दुग्धम् इव धवलम्
दूध के समान सफ़ेद
पुरुषसिंहः
पुरुष: इव सिंह:

सिंह के समान
पुरुष
करकमलम्
करम् इव कमलम्
कमल के समान
हाथ
मुखकमलम्
मुखम् इव कमलम्
कमल के समान
मुख
मुखचन्द्रम्मुखम् इव चन्द्रम्चन्द्रमा के समान मुख

इस प्रकार से हम समानाधिकरण तत्पुरुष समास के एक उपभेद कर्मधारय समास को समझ सकते हैं।
कर्मधारय समास तत्पुरुष समास का ही भेद है जिसकी विस्तृत जानकारी आपने हमारे पूर्व लेख में पढ़ चुके
है।


तत्पुरुष समास के दो प्रकार होते हैं :-

  1. व्यधिकरण तत्पुरुष समास
    (इसे हमारे पूर्व लेख में पढ़ सकते है )
  2. समानाधिकरण तत्पुरुष समास
    यह दो प्रकार का होता है –
  3. द्विगु समास 2. कर्मधारय समास

जानकारी हेतु नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें

Leave a Comment