Khad dhatu keroop खाद् (खाना) धातुरूप in Sanskrit

खाद् (खाना) धातुरूप

‘खाद्’ धातु का अर्थ होता है – खाना अर्थात् to eat यह धातु भवादिगण की परस्मैपदी धातु है ।

आज हम इस लेख में खाद् धातु के धातु-रूप के विषय में अध्ययन करेंगे | खाद्य धातु रुप के पांचों |
लकारों में और हिन्दी अर्थ के साथ प्रस्तुत है ।


लट् लकार वर्तमानकाल Present Tense

पुरुष एकवचनम्द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथमखादतिखादत:खादन्ति
मध्यमखादसिखादथ:खादथ
उत्तमखादामिखादाव:खादाम :

लङ् लकार भूतकाल Past Tense

पुरुषएकवचनम्द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथमअखादत्अखादताम्अखादन्
मध्यम
अखादः

अखादतम्

अखादत
उत्तमअखादमअखादावअखादाम

लृट् लकार भविष्यत् काल Future Tense

पुरुषएकवचनम् द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथम
खादिष्यति

खादिष्यतः

खादिष्यन्ति
मध्यमखादिष्यसि
खादिष्यथः
खादिष्यथ
उत्तमखादिष्यामिखादिष्यावःखादिष्यामः

लोट् लकार आज्ञार्थ काल Imperative Tense

पुरुषएकवचनम्द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथम
खादतु

खादताम्

खादन्तु
मध्यमखाद
खादतम्
खादत
उत्तमखादानिखादावखादाम

विधिलिङ् लकार चाहिए अर्थ में Potential Mood

पुरुषएकवचनम्द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथम
खादेत्

खादेताम्

खादेयुः
मध्यमखादे:
खादेतम्
खादेत
उत्तमखादेयम्खादेवखादेम

हिन्दी अर्थ Khad dhatu ke roop


नीचे “खाद्” धातु के सभी पाँचों लकारों में हिन्दी अर्थ के साथ धातु रूप दिया गया है | याद रखे कोष्ठक () में कर्ता वाचक शब्द है । यहाँ पर विद्यमान कर्ता वाचक शब्द तत्, युष्मद् और अस्मद् के शब्द-रूपों पर आधारित है ।


लट् लकार (वर्तमानकाल)

पुरुषएकवचनम्द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथम
(वह) खाता
है
(वे दोनों) खाते हैं


(वे सब ) खाते हैं

मध्यमतु) खाता है

(तुम दोनों) खाते हो(तुम सब ) खाते हों
उत्तम(मैं) खाता(हम दोनों) खाते हैं(हम सब ) खाते हैं
  1. वह फल खाता है |
    सः फलं खादति ।
  2. तुम सब रोटी खाते हो ।
    यूयं रोटिकां खादथ |
  3. मैं लड्डू खाता हूँ ।
    अहं मोदकं खादामि |

लङ् लकार (भूतकाल )

पुरुष
प्रथम वह ,
खाता था
वे दोनों
खाते थे
वे
सब खाते थे
मध्यम तुम,
खाता था
तुम
दोनों खाते थे
तुम
सब खाते थे
उत्तममैं,
खाता था
हम
दोनों खाते थे
हम
सब खाते थे

लृट् लकार (भविष्यत् काल)

पुरुषएकवचनम्द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथम

(वह)
खाएगा

(वे दोनों) खाएंगें

(वे सब ) खाएंगें
मध्यमतुम)- खाओगे
(तुम
दोनों) खाओगे
(तुम सब ) खाओगे
उत्तम(मैं) खाऊंगा(हम
दोनों) खाएंगें
(हम सब ) खाएंगें

लोट् लकार (आज्ञार्थ काल)

पुरुषएकवचनम्द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथम
(वह) खाए

(वे दोनों) खाएं

(वे सब ) खाएं
मध्यम(तुम)- खाओ
(तुम
दोनों) खाओ
(तुम सब ) खाओ
उत्तम(मैं) खाऊँ(हम दोनों) खाएं(हम सब)
खाएं

विधिलिङ् लकार (चाहिए अर्थ में)

पुरुषएकवचनम्द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथम
(उसे)
खाना
चाहिए

(उन दोनों को)
खाना चाहिए

(उन सब को) खाना चाहिए
मध्यम(तुम्हें)
खाना
चाहिए
(तुम दोनों को)
खाना चाहिए
(तुम सब को) खाना चाहिए
उत्तम(मुझे)
खाना
चाहिए
(हम दोनों को)
खाना चाहिए
(हम सब
को)
खाना चाहिए

Leave a Comment