Kree dhatu ke roop क्री (खरीदना) धातु रूप in Sanskrit

क्री (खरीदना) धातु रूप

‘क्री’ धातु का अर्थ होता है – खरीदना अर्थात् . यह धातु क्रयादिगण की उभयपदी धातु है । आज हम इस लेख में ‘क्री’ धातु के धातु-रूप के विषय में अध्ययन करेंगे | Kree dhatu ke roop पांचों लकारों में प्रस्तुत है ।


“कृ” व “क्री” धातु में अंतर

‘कृ’ धातु का अर्थ होता है – करना अर्थात् किसी कार्य को अन्तिम चरण में ले जाना |
परन्तु ‘क्री’ धातु का अर्थ होता है – खरीदना अर्थात् किसी वस्तु को मूल्य देकर लेना |

लट् लकार वर्तमानकाल Present Tense

पुरुषएकवचनम्द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथम
क्रीणाति

क्रीणीत:

क्रीणन्ति
मध्यमक्रीणासि
क्रीणीथ:
क्रीणीथ
उत्तमक्रीणामिक्रीणीव:क्रीणीम:

लङ् लकार भूतकाल Past Tense

पुरुषएकवचनम्द्विवचनमवबहुवचनम्
प्रथमअक्रीणात्अक्रीणीताम्अक्रीणन्
मध्यमअक्रीणा:अक्रिणीतम्अक्रीणीत
उत्तमआक्रीणाम्अक्रीणीवअक्रीणीम

लृट् लकार भविष्यत् काल Future Tense

पुरुषएकवचनम्द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथम
क्रेष्यति

क्रेष्यत:

क्रेष्यन्ति
मध्यमक्रेष्यसि
क्रेष्यथ:
क्रेष्यथ
उत्तमक्रेष्यामिक्रेष्याव:क्रेष्यामः

लोट् लकार अज्ञार्थ काल Imperative Tense

पुरुषएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथमक्रीणातुक्रीणीताम्क्रीणन्तु
मध्यमक्रीणीहिक्रीणीतम्क्रीणीत
उत्तम क्रणीनिक्रीणावक्रीणाम

विधिलिङ् लकार चाहिए अर्थ में Potential Mood

पुरुषएकवचनम्द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथम
क्रीणीयात्

क्रीणीयाताम्

क्रीणीयुः
मध्यमक्रीणीया:क्रीणीयातम्
क्रीणीयात
उत्तमक्रीणीयाम्क्रीणीयाव क्रीणीयाम

आशा करता हूँ कि आपको क्री धातु (खरीदना) के धातु रूप अच्छे से समझ में आ गए होंगे | इस धातु का वाक्य में प्रयोग किस प्रकार से किया जाता है कुछ वाक्यों के द्वारा बताने का प्रयास किया गया है आप भी इसी तरह वाक्य में प्रयोग करके अभ्यास करे ।

1.वह फल खरीदता है ।
सः फलं क्रीणाति |

2.तुम सब सब्जी खरीदते हो ।
यूयं शाकं क्रीणीथ |

3.मैं लड्डू खरीदता हूँ |
अहं मोदकं क्रीणामि |

4.राधा चावल खरीदेगी |
राधा तन्दुलान् क्रेष्यति |

5..मै रामायण खरीदूंगा |
अहं रामायणं क्रेष्यामि |

6.तुम्हें केले खरीदने चाहिए |
त्वं कदली- फलानि क्रीणीयाः ।

7.हमें पुस्तकें खरीदनी चाहिए |
वयं पुस्तकानि क्रीणीयाम |

Leave a Comment