ktavatu Pratyay क्तवतु प्रत्यय की परिभाषा व उदाहरण

क्तवतु प्रत्यय की परिभाषा व उदाहरण

क्तवतु प्रत्यय की परिभाषा :- क्तवतु प्रत्यय कृदंत प्रत्यय कहलाता है । इस प्रत्यय का प्रयोग केवल कर्तृवाच्य में ही किया जाता है | कर्तृवाच्य……अर्थात् कर्ता में प्रथमा विभक्ति और कर्म में द्वितीया विभक्ति का प्रयोग होता है तथा क्रिया में लिंग और वचन कर्ता के लिंग और वचन के अनुसार होते हैं । इस प्रत्यय में प्रारम्भिक ‘क’ और अंतिम ‘उ’ का लोप होकर ‘तवत्’ शेष रहता है | इस प्रत्यय के रूप तीनों लिंगो में चलते है । क्तवतु प्रत्यय का प्रयोग भूतकाल अर्थ में किया जाता है ।


क्तवतु प्रत्यय ktavatu Pratyay में क्या शेष रहता है ?

इस प्रत्यय में प्रारम्भिक ‘क्’ और अंतिम ‘उ’ का लोप होकर तवत् शेष रहता है ।
इस प्रत्यय के रूप तीनों लिंगो में चलते है । (भवत् के समान)

इट् आगम in ktavatu Pratyay

इट् आगम में ‘ट्’ का लोप होकर केवल ‘इ’ शेष रहता है । हलन्त धातुओं जैसे – पठ्, लिखु, चल् आदि धातुओं से ‘इट्’ आगम होगा और अजन्त धातुओं जो हलन्त नहीं है जैसे – नी, ज्ञा, क्री आदि धातुओं को ‘इट्’ आगम नहीं होगा |

पठ्क्तवतुपठितवान्
लिख्क्तवतुलिखितवान्
ज्ञाक्तवतुज्ञातवान्
नीक्तवतुनीतवान्

वाक्य प्रयोग

बालकः पठितवान् = लड़का पढ़ा |

बालकौ पठितवन्तौ = दो लड़के पढ़े |

बालकाः पठितवन्तः = लड़के पढ़े ।

बालिका पठितवती = लड़की पढ़ी |

पहले वाक्य में बालक: में पुल्लिंग एकवचन होने के कारण पठितवान् में भी पुल्लिंग एकवचन हुआ ।

दूसरे वाक्य में बालकौ में पुल्लिंग द्विवचन होने के कारण क्रिया में भी पठितवन्तौ पुल्लिंग द्विवचन हो गया ।

तीसरे वाक्य में बालका: में पुल्लिंग बहुवचन होने के कारण क्रिया में भी पठितवन्तः पुल्लिंग बहुवचन हुआ |

चौथे वाक्य में बालिका के स्त्रीलिंग एकवचन होने के कारण क्रिया में भी पठितवती स्त्रीलिंग एकवचन हुआ |

क्तवतु प्रत्यय के उदाहरण

धातुप्रत्ययपुल्लिंगस्त्रीलिंगनपुंसकलिंग
पठ्
क्तवतु
पठितवान्
पठितवती
पठितवत्
पा
क्तवतु
पीतवान्
पीतवती
पीतवत्
त्यज्
क्तवतु
त्यक्तवान्
त्यक्तवती
त्यक्तवत्
गम्
क्तवतु
गतवान्
गतवती
गतवत्
दृश्क्तवतु
दृष्टवान्
दृष्टवती
दृष्वत्
नी
क्तवतु
नीतवान्
नीतवती
नीतवत्
हन्
क्तवतु
हतवान्
हतवती
हतवत्
कृ
क्तवतु
कृतवान्
कृतवती
कृतवत्
ताड्
क्तवतु
ताडितवान्
ताडितवती
ताडितवत्
श्रु
क्तवतुश्रुतवान्श्रुतवती
श्रुतवत्
वच्
क्तवतुउक्तवान्
उक्तवती
उक्तवत्
वद्
क्तवतुउदितवान्
उदितवतीउदितवत्
वस्
क्तवतुउषितवान्
उषितवती
उषितवत्
स्था
क्तवतुस्थितवान्
स्थितवती
स्थितवत्
दा
क्तवतुदत्तवान्
दत्तवती
दत्तवत्
भूक्तवतुभूतवान्
भूतवती
भूतवत्
रच्क्तवतुरचितवान्
रचितवती
रचितवत्
रक्ष्क्तवतुरक्षितवान्रक्षितवतीरक्षितवत्

Leave a Comment