ktva pratyaya क्त्वा प्रत्यय in Sanskrit

क्त्वा प्रत्यय in Sanskrit

“क्त्वा” प्रत्यय एक कृदन्त प्रत्यय है | इसका (ktva pratyaya in sanskrit) प्रयोग ” धातु ” के साथ किया जाता है | पढ़कर लिखकर या देकर इत्यादि “कर” अथवा “करके” के अर्थ में “क्त्वा” प्रत्यय का प्रयोग होता है । ” क्त्वा” प्रत्यय में “क्” का लोप होकर “त्वा” शेष रहता है । “त्वा” अव्यय होता है ।


पठ् + क्त्वा = पठित्वा (पढकर के)
दा+क्त्वा = दत्त्वा (देकर के)
ज्ञा+क्त्वा = ज्ञात्वा (जान करके)
कृ + क्त्वा = कृत्वा (करके)


नियम

क्त्वा प्रत्यय का प्रयोग करते समय कुछ नियमों का पालन करना चाहिए


1. क्त्वा प्रत्यय का प्रयोग करते समय धातु को “गुण या वृद्धि” नही होती है | सेट् धातुओं में “इ” लगेगा और अनिट् धातुओं में “इ” नही लगेगा |

उदाहरण

पठ्+ क्त्वा= पठित्वा

हस्+ क्त्वा=हसित्वा

लिख् + क्त्वा= लिखित्वा

रुद्+ क्त्वा=रुदित्वा

धृ+ क्त्वा= धृत्वा

भू+ क्त्वा= भूत्वा

कृ+ क्त्वा= कृत्वा

जि+ क्त्वा = जित्वा

2. यम्, रम्, नम्, हन्, मन्, वन् और तनादिगण की धातुओं में “म्” और “न्” का लोप होता है ।

Examples:

-गम्+ क्त्वा= गत्वा

यम् + क्त्वा= यत्वा

रम्+ क्त्वा= रत्वा

नम् + क्त्वा= नत्वा

हन् + क्त्वा= हत्वा

मन्+ क्त्वा= मत्वा

03. वच् आदि धातुओं को सम्प्रसारणहोता है ।

Examples:-

वच्+ क्त्वा= उक्त्वा

स्वप् + क्त्वा= सुप्त्वा

यज् + क्त्वा= इष्ट्वा

ग्रह्+ क्त्वा=गृहीत्वा

प्रच्छ्+ क्त्वा= पृष्ट्वा्व

वद्+ क्त्वा= उदित्वा्

स्+ क्त्वा= उषित्वा

वह्+ क्त्वा= ऊढ्वा

नियम :- 04. धातु के अन्तिम च् और ज् को क्, द् को त्, भ् को ब्, ध् को द् हो जाता है |

Examples:-

पच् + क्त्वा= पक्त्वा

भुज्+ क्त्वा= भुक्त्वा

छिद् + क्त्वा= छित्त्वा

रुध् + क्त्वा= रुद्ध्वा

क्त्वा प्रत्यय उदाहरण

05. धातु के अन्तिम च्छ्, श् तथा भ्रस्ज् , सृज्, मृज्, यज्, के “ज्” के स्थान पर “ष्”होकर “ष्ट्वा” हो जाता है

।Examples:-

प्रच्छ् + क्त्वा= पृष्ट्वा

भ्रस्ज् + क्त्वा= भ्रष्ट्वा

सृज्+ क्त्वा= सृष्ट्वा

मृज्+ क्त्वा= मृष्ट्वा

यज् + क्त्वा= इष्ट्वा

06. गा और पा धातु के “आ” को “ई” हो जाता है, अन्यत्र “आ” ही रहता है ।

Examples:-

गा + क्त्वा= गीत्वा

पा + क्त्वा= पीत्वा

ज्ञा+ क्त्वा= ज्ञात्वा

त्रा+ क्त्वा= त्रात्वा

07. कम्, क्रम्, चम्, दम्, भ्रम्, शम् इन
धातुओं के दो-दो रूप बनते है

Examples:-—

कम् + क्त्वा=कमित्वा/कान्त्वा

क्रम् + क्त्वा= क्रमित्वा/क्रान्त्वा

चम् + क्त्वा= चमित्वा/चान्त्वा

दम् + क्त्वा= दमित्वा/दान्त्वा

भ्रम् + क्त्वा= भ्रमित्वा/भ्रान्त्वा

शम् + क्त्वा= शमित्वा/शान्त्वा

अन्य धातुओं के रूप इस प्रकार से बनाते है

-दा+ क्त्वा= दत्त्वा

धा + क्त्वा=हित्वा

अद् + क्त्वा= जग्ध्वा

दह् + क्त्वा= दग्ध्वा

Leave a Comment