तृतीय: पाठ: – हास्य कणिका – Lesson-3 Jokes

परिशिष्ट

भवति- ‘होना’ अर्थ के लिए ‘भू’ धातु का प्रयोग होता है। इसी प्रकार ‘भू’ और ‘अस्’ धातु के लृट् लकार (भविष्यत् काल) में रूप एक होते हैं। यहाँ भवति = भू. धातू + लट् लकार + प्रथम पुरुष + एकवचन है।

उपसर्ग होने पर अर्थ में परिवर्तन होता है-

परा + भवति = पराभवति = हारता है।

अनु + भवति = अनुभवति = अनुभव करता है।

सम् + भवति = सम्भवति = सम्भव होता है।

प्र + भवति = प्रभवति = निकलता/उत्पन्न होता है।

परि + भवति = परिभवति = परिकृत होता है।

उद् + भवति = उद्भवति = उद्भव होता/निकलता है।


अध्यापक:– एकः श्रेष्ठचित्रकर्ता हसितमाने वदने एकमात्रे रेखाया: सहयोगेन रोदितमाने वदने परिवर्तयितुं शक्यते ।छात्रः – महोदय! मम मातु तु कार्यमिदं हस्तेन कर्तुं शक्यते ।

रिंकू :- कथय, सर्वाधिकमात्रायां गौलालवः कुत्रः भवन्ति ?चिंकू:- त्रिकोणकुण्डे ।

स्वामी – चम्पू पश्य इदानी कति समयो वेला?
सेवक: – स्वामिन्! मया समय कार्य न शक्यते।
स्वामी – आम् ! अत्र न कोऽपि वार्ता। वेलायंत्रं दृष्ट्वा कथय,घटी सूचीका कुत्र अस्ति पुनश्च होरा सूचीका कुत्र अस्ति।सेवक: – महोदया सूचिके बेलायत्रस्थैव स्तः।


सुधा – किं भवान्, आंग्लभाषावाचने कोऽपि शंका भवति? रिंकू – नहिं, यदि श्रवणकर्तारौ भवेत् तर्हि अहं न जानामि।

पिंटू : – आदर्शमिदं खण्डितस्य कारणं त्वमसि।
चिंटू:- नहिं, अत्र त्वं कारणम्। अहं तु केवल कन्दुकप्रेक्षणकार्यं कृतः। यदि त्वं कन्दुकमार्गात् दूरतः न भवेत् तहिं आदर्श न खण्डिता भवति।

रोगिजन: – (चिकित्सकमवलम्बय) अहं रात्रौ स्वपितिकाले पर्यंकात् अधः पततामि।
चिकित्सक: – तर्हि मम समीपे कथम् आगच्छसि ? तां काष्ठकारसमीपं गच्छ येन पर्यंक-निर्माणं कृतः ।

(एकदा राजरक्षकाः चौरमेकं न्यायालये नीतवन्तः। जीपवाहने स्थितः सः चौरः प्रसन्नमुखः आसीत्।)
राजरक्षक: – कथं त्वं प्रसन्नोऽसि ? इदानीं समये तु त्वां चिंताकुलः भवितव्यम्?
चौर: — अत्र कारणमिदं यत् जीपवाहने आरूढने मम प्रथमो अवसरः वर्तते।

माता – (बंटीम् अवलम्बय) पुत्र! एतत् प्रकारेण ढक्कां कथं भूमौ लुण्ठसे ?

बंटी – माते! अहं स्वानुजाय मनसि सुखाय अनुभवं कारयामि।
माता – किंतु अत्र तवानुजं न दृश्यते ?
बंटी – माते! ममानुजं तु ढक्कामध्ये स्थितः।

शब्दार्थाः

कति समयो वेला – क्या समय हुआ है what is the time

वेलायंत्रम् = घड़ी watch

घटी सूचिका – मिनट वाली सुई minute-hand

हसितमाने वदने – हँसते हुए चेहरे को to the laughing face

होरा सूचिका – घंटे वाली सुई hour hand

हस्तेन – एक हाथ से ही (द्वारा ही) by one hand

गोलालवः – आलू (बहु०) potato

श्रवण कर्तारौ – सुनने वालों को to the hearer

त्रिकोणकुण्डे – समोसे में in samosas

आदर्श: – शीशा mirror

खण्डितस्य = टूटने का of breaking

काष्ठकारसमीपम् – बढ़ई के पास near the carpenter

स्वपितिकाले – समय at the time of sleeping

राजरक्षका – सिपाही (बहु० ) police

ढक्क – ढोलक drum

कार्य-कालम्

1. निम्नलिखित प्रश्नों के संस्कृत में उत्तर दीजिए-
(Answer the following questions in Sanskrit)-
(क) द्वे सूचिके वेल्लायन्त्रस्यैव स्तः ।

(ख) चित्रकर्ता किं कर्तुं शक्यते ?

(ग) यदा सुधा प्रश्नं पृच्छति तदा रिंकूः किम् उत्तरं ददाति?

(घ) सर्वाधिक गोलालवः कुत्र भवन्ति?

(ङ) त्वयानुसारेण कः आदर्शस्य खंडनस्य कारणाम्?

(च) चौरः कथं प्रसन्नचितः आसीत्?

2. निम्नलिखित वाक्यों का संस्कृत में अनुवाद कीजिए-
(Translate the following sentences into Sanskrit)—

(क) मैं समय देखना नहीं जानता।

(ख) समौसे में आलू पाये जाते हैं।

(ग) इस परिणाम का कारण मैं नहीं हूँ।

(घ) रेल में बैठने का यह मेरा पहला अवसर है।

(ङ) तुम ढोलक क्यों लुढका रहे हो?

(च) ढोलक के ऊपर बालक है।

3. निम्नलिखित वाक्यों का हिन्दी में अनुवाद कीजिए—
(Translate the following sentences into Hindi)-


(क) इदानीं कति समयो वेला ?

(ख) यदि श्रवणकर्त्तारौ भवेत् तर्हि अहं न जानामि।

(ग) अहं तु केवल कंदुकप्रेक्षणकार्यं कृतः।

(घ) येन पर्यंक-निर्माणं कृतः ।

(ङ) चौरः प्रसन्नमुखः आसीत्।

(च) अत्र तवानुजं न दृश्यते।

4. निम्नलिखित क्रियाओं के मूल धातु, लकार, पुरुष एवं वचन लिखिए-
(Write the root, mood, person and number of each of the following verbs)-

शब्दमूल धातुलकारपुरूष वचन
स्तः
जानामि
असि
लुण्ठति
कारयामि

5. निम्नलिखित शब्द रूपों के मूल शब्द विभक्ति और वचन लिखिए-
(Write the root word, case-ending and number of each of the following word forms)

शब्द रूपमूल शब्दविभक्तिवचन
आरूढ़ने
कंदुकमार्गीत्
प्रकारेण
रात्री
भूमी
न्यायालये
शंका

5. धातु के अनुसार रिक्त स्थान की पूर्ति कीजिए-
(Fill in the blanks according to mood ) –

(क) सर्पः नकुलात् …….…..। (परा +भू)
(ख) धरात् अंकुर: …………..। ‌ (प्र+भू)
(ग) सः कष्टेन ………………..। (अनु + भू)
(घ) गंगा हिमालयात् …………..। (उद् + भू)
(ङ) सत्यवाचने एव विजयं …………..। (सम् + भू)
(च) सत्येन मानवः ………….। (परि + भू)




Leave a Comment