ling लिंग (gender) अध्याय 5

परिभाषा :

संज्ञा का वह रूप जिससे यह पता चलता है कि वह स्त्री जाति का है या पुरुष जाति का, लिंग कहलाता है।
लिंग संस्कृत भाषा का एक शब्द है जिसका अर्थ चिहन या निशान होता है।

लिंग के दो भेद होते हैं-

लिंग के भेद

  1. पुल्लिंग
  2. स्त्रीलिंग

1.पुल्लिंग –

वे शब्द जो पुरुष जाति का बोध कराते हैं, पुल्लिंग कहलाते हैं; जैसे-

लड़का, मुर्गा,
शेर, बैल आदि ।

2.स्त्रीलिंग

जिन शब्दों से स्त्री जाति का बोध हो, उसे स्त्रीलिंग कहते हैं; जैसे-

लड़की, मौसी, मुर्गा, शेरनी, बकरी, गाय आदि।

लिंग की पहचान

प्रायः मोटी भारी और बेडौल वस्तुएँ पुल्लिंग होती हैं; जैसे- हिमालय, पत्थर, टोकर आदि।

पेड़ों, दिनों, महिनों, देशों पर्वतों और नक्षत्र ग्रहों के नाम सदा पुल्लिंग में होते हैं; जैसे- आम, सोमवार, चेत्र, भारत, हिमालय, सूर्य आदि।

तिथियों, नदियों, भाषा-बोलियों, ‘ई’ अंत वाले शब्द ‘इया’ अंत वाले शब्द और शरीर के कुछ अंगों के नाम सदा स्त्रीलिंग में होते हैं; जैसे- पहली, गंगा, हिंदी, कहानी, गुड़िया, आँख, उँगली आदि।

प्रायः आ पन या न जिन शब्दों के अंत में लगते हैं उन शब्दों को पुल्लिंग कहते हैं।
जैसे – चाचा, ताया, दाया, नाना, बाबा, घोड़ा, सोना, गाना, नहाना आदि।

★ काल संबंधी ये नाम पुल्लिंग हैं; 
जैसे- समय, वक्त, पल, मिनट, घण्टा, दिन, सप्ताह, पखवाड़ा आदि ।
★ काल संबंधी ये नाम स्त्रीलिंग हैं; जैसे -
 रात, घड़ी, साँझ, शताब्दी आदि।

पुल्लिंग से स्त्रीलिंग बनाना

1.अ, और आ, का ई, कर देते हैं|

पुल्लिंगस्त्रीलिंग
लड़कालड़की
पुत्रपुत्री
गधागधी
घोड़ाघोड़ी
देवदेवी
चाचाचाची
दासदासी
बेटाबेटी

2.आ को इया, कर देते हैं|

पुल्लिंग से स्त्रीलिंग बनाना

पुल्लिंग स्त्रीलिंग
बूढ़ीबुढ़िया
चूहाचुहिया
डिब्बाडिबिया
लोटालुटिया

3. अंत में आनी जोड़कर

पुल्लिंग से स्त्रीलिंग बनाना

पुल्लिंग स्त्रीलिंग
सेठसेठानी
जेठजेठानी
देवरदेवरानी
नौकरनौकरानी

4. व्यवसाय सूचक शब्दों के अ, आ, और ई, को इन कर देते हैं

पुल्लिंग से स्त्रीलिंग बनाना-

पुल्लिंग स्त्रीलिंग
धोबीधोबिन
नाईनाइन
दर्जीदर्जिन
मालीमालिन
सुनारसुनारिन
लोहारलोहारिन
ग्वालाग्वालिन
पुजारी पुजारिन

5.अ, अंत वाले शब्दों में नी, जोड़कर

पुल्लिंग से स्त्रीलिंग बनाना

पुल्लिंग स्त्रीलिंग
मोरमोरनी
शेरशेरनी
हंसहंसनी
सिंह सिंहनी
ऊँटऊँटनी
जाटजाटनी

6. अंत में आइन जोड़कर

पुल्लिंग से स्त्रीलिंग बनाना-

पुल्लिंग स्त्रीलिंग
चौधरीचौधराइन
बाबूबबुआइन
लालाललाइन
पंडित पंडिताइन

7.तत्सम शब्दों में आ जोड़कर

पुल्लिंग से स्त्रीलिंग बनाना-

पुल्लिंग स्त्रीलिंग
प्रियप्रिया
बालबाला
सुतसुता
वृद्धवृद्धा

8. अंतिम अक, को इका, में बदलकर

पुल्लिंग से स्त्रीलिंग बनाना-

पुल्लिंग स्त्रीलिंग
बालकबालिका
अध्यापकअध्यापिका
नायकनायिका

9. अंतिम आन, को अती, में बदलकर

पुल्लिंग से स्त्रीलिंग बनाना-

पुल्लिंग स्त्रीलिंग
श्रीमानश्रीमती
धनवानधनवती
पुत्रवानपुत्रवती
गुणवानगुणवती
रुपवानरुपमती
बुद्धिमान बुद्धिमती

10. कुछ शब्दों के बिल्कुल नए रूप

पुल्लिंग से स्त्रीलिंग बनाना-

पुल्लिंग स्त्रीलिंग
पितामाता
भाईबहन
राजारानी
बैलगाय
पुरुषस्त्री
सासससुर
वरवधू
युवकयुवती
कविकवयित्री
विद्वानविदुषी
अभिनेताअभिनेत्री
सम्राटसाम्राजी
मामामामी
ताऊताई

11. कुछ शब्दों के साथ नर, या मादा, लगाइए

पुल्लिंग से स्त्रीलिंग बनाना-

पुल्लिंग स्त्रीलिंग
भेड़ियामादा भेड़िया
चीतामादा चीता
नर कोयलकोयल
नर मक्खी मक्खी

याद रखने योग्य बातें


● संज्ञा का वह रूप जिससे यह पता चलता है कि वह स्त्री जाति का है या पुरुष जाति का, लिंग कहलाता है। ● लिंग का अर्थ हैं- चिह्न या निशान।
● लिंग दो प्रकार के होते हैं- (1) पुल्लिंग और (2) स्त्रीलिंग
● शरीर के अंग रत्नों के नाम, पेड़ों के नाम, द्रव्य पदार्थों के नाम पुल्लिंग हैं।

अभ्यास प्रश्न

(क) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए

1. लिंग की परिभाषा लिखिए उदाहरण दीजिए?

संज्ञा का वह रूप जिससे हमें स्त्री या पुरुष जाति का बोध होता है उसे हम लिंग कहते हैं जैसे लड़का, और लड़की

2. लिंग के प्रकार को उदाहरण सहित समझाइए?

लिंग दो प्रकार के होते हैं, 1.पुल्लिंग जिस शब्द से हमें पुरुष जाति का बोध होता है उसे पुल्लिंग कहते हैं जैसे लड़का मुर्गा शेर, 2. जिन शब्दों से स्त्री जति का बोध होता है उसे स्त्रीलिंग शब्द कहते हैं जैसे लड़की मौसी शेरनी बकरी आदि|

(ग) निम्नलिखित शब्दों के लिंग बदलकर लिखिए?

शब्दलिंग
गधागधी
दर्जीदर्जिन
डिब्बाडिबिया
लोहारलोहारिन
हंसहंसनी
लालाललाइन
बैलगाय

(घ) निम्नलिखित वाक्यों में रंगीन शब्दों का लिंग परिवर्तन करके रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए

  1. उस कुटिया में एक तपस्वी और एक.. तपस्विनी..रहते हैं।
  2. मैच पर कवियों और.. कवयित्री……..ने कविताएँ सुनाईं।
  3. उसकी दो बेटियाँ और एक.बेटे…है।
  4. कुम्हार बर्तन बना रहा है और…. कुम्हारिन..सुखा रही है।
  5. राजसभा में सम्राट के साथ…सम्राजी…. भी पधारी ।


(ङ) निम्नलिखित वाक्यों में दिए गए रंगीन शब्दों के लिंग लिखिए-

  1. मैं प्रतिदिन विद्यालय जाता हूँ।
  2. वह प्रत्येक कार्य ईमानदारी से करता है।
  3. पूर्णिमा को मैं निमय से उपवास रखता हूँ।
  4. तुम्हें मेरे घर अवश्य आना है।
  5. मुझे किसी की चीख सुनाई दी।
  6. शशांक मेहनत करने से घबराता नहीं है।
  7. अगले सोमवार को मेरा जन्मदिन है।
  8. सभी गिलास सँभालकर अलमारी में रख दो।
  9. आज मुझे एक विवाह में सम्मिलित होना है।
  10. भीषण गर्मी के बाद हवा का स्पर्श शरीर को अच्छा लगा।

वर्ण विचार

भाषा और व्याकरण

Leave a Comment