Mansik Aayu मानसिक आयु

मानसिक आयु

बिने Binet ने बुद्धि परीक्षा के आधार पर मानसिक आयु की सार्थकता को स्पष्ट किया है।

उनके कथनानुसार – मानसिक आयु किसी व्यक्ति के द्वारा विकास की सीमा की वह अभिव्यक्ति है, जो उसके कार्यों द्वारा जानी जाती है तथा किसी आयु विशेष में उसकी अपेक्षा होती है।

बुद्धि परीक्षा के आधार पर यह निष्कर्ष निकलताहै कि जिस बालक ने 10 वर्ष की आयु के सामान्य बालकों के समान कार्य सफलतापूर्वक पूर्ण कर लिया है, उसकी मानसिक आयु 10 वर्ष होगी। यदि 8 वर्ष का बालक ऐसे कार्य कर लेता है, जिसको 9 वर्ष का बालक कर पाता तो उस बालक की मानसिक आयु १ वर्ष होगी।

इसका अर्थ है कि मानसिक आयु किसी विशिष्ट उम्र में बालक की मानसिक परिपक्वता को बताती है। यही परिपक्वता मानसिक आयु है ।”बिने परीक्षा के अन्तर्गत ‘सामान्य मानसिक योग्यता’ का मापन किया गया है।

इसके अनुसार बालक का मानसिक विकास जिस आयु के मध्य पूर्णता के साथ होता है, वह है-14 से 22 वर्ष ।

मानसिक आयु निकालने का सूत्र

बुद्धि-लब्धि बालक में स्थित बुद्धि की मात्रा का मापन है। टरमैन ने मानसिक आयु के बदले बुद्धि-लब्धि की विधि खोजी, मानसिक आयु निकालने के लिये बुद्धि-लब्धि को वास्तविक आयु से गुणा किया जाता है; जैसे-

IMG 20240212 144527 Mansik Aayu मानसिक आयु

उदाहरण के लिए

जैसे- यदि बालक की वास्तविक आयु 8 वर्ष है और वह 10 वर्ष के सामान्य बालको का कार्य पूर्ण कर लेता है तो उसकी मानसिक आयु 10 वर्ष होगी । दशमलव को पूर्ण बनाने के लिये 100 से गुणा कर देते हैंl

बुद्धि-लब्धि प्रतिभा का सूचकांक है। प्रतिभा की यह मात्रा या मानसिक अभिवृद्धि टरमैन द्वारा बनायी गयी एवं डॉ. मैरिलक द्वारा स्वीकृत की गयी तालिका द्वारा प्रदर्शित की गयी है.

बुद्धि-लब्धिप्रतिभा

140-169

अति प्रतिभाशाली
120-139
प्रतिभाशाली
110-119
अति उत्कृष्ट
90-109
उत्कृष्ट
80-89
सामान्य
70-79
मंद
60-69
निर्बल बुद्धि
50-59
हीन बुद्धि
25-49
मूर्ख
0-24जड़
IMG 20240212 145246 Mansik Aayu मानसिक आयु

बर्ट ने अपनी पुस्तक ‘,मानसिक तथा शिक्षा-लब्धि परीक्षण में बुद्धि के आधार पर वर्गीकरण तथा शिक्षा की आयु एवं शिक्षा- लब्धि को स्पष्ट किया। इसे विभिन्न बुद्धि परीक्षणों से मापा जाता है।

Leave a Comment