Matup Pratyayin Sanskrit मतुप् प्रत्यय की परिभाषा व उदाहरण

मतुप् प्रत्यय

मतुप् प्रत्यय की परिभाषा :- इस प्रत्यय का प्रयोग भाववाचक संज्ञा और विशेषण के रूप में किया जाता है । “मतुप् ” प्रत्यय में अंतिम “उप्” का लोप होकर “मत्” शेष रहता है | यदि शब्दान्त (शब्द के अंत में) अ/आ/स् हो तो “मत्” को “वत्” हो जाता है


इस प्रत्यय के रूप तीनो लिंगो में चलते हैं :- “पुल्लिंग” में “भवत्” की तरह “स्त्रीलिंग” में “नदी” की तरह और “नपुंसकलिंग” में “जगत्” की तरह बनते हैं ।
मतुप् प्रत्यय एक तद्धित प्रत्यय है | जो ‘युक्त/वाला’ अर्थ में संज्ञा व सर्वनाम शब्द के साथ प्रयोग किया जाता है ।


जैसे :- सः बलवान् अस्ति |
वह बलवान है अर्थात् बल से युक्त है ।

” मतुप् ” का प्रयोग ” धातु” के साथ न होकर “शब्द” के साथ किया जाता है ।

जैसे :- फल + मतुप् = फलवान् अर्थात् फलवाला

मतुप् प्रत्यय के उदाहरण

शब्द
प्रत्ययपुल्लिंगस्त्रीलिंग नपुंसकलिंग
श्री
मतुप्श्रीमान्
श्रीमती
श्रीमत्
धी
मतुप्धीमान्
धीमती
धीमत्
शक्ति
मतुप्शक्तिमान्
शक्तिमती
शक्तिमत्
आयुस्
मतुप्आयुष्मान्
आयुष्मती
आयुष्मत्
नीति
मतुप्नीतिमान्
नीतिमती
नीतिमत्
अग्नि
मतुप्अग्निमान्
अग्निमती
अग्निमत्
ध्वनि
मतुप्ध्वनिमान्
ध्वनिमती
ध्वनिमत्
हनुमतुप्हनुमान्
हनुमती
हनुमत्

चक्षु
मतुप्चक्षुमान्
चक्षुमती
चक्षुमत्
भानु

मतुप्भनुमान्
भानुमती
भानुमत्
धृति
मतुप्धृतिमान्
धृतिमती
धृतिमत्
इक्षुमतुप्इक्षुमान्

इक्षुमती

इक्षुमत्
मधुमतुप्मधुमान्मधुमतीमधुमत्

वतुप् Matup Pratyay in Sanskrit


यदि शब्दान्त /शब्द के अंत में अ/आ/स् हो तो “मत्” को “वत्” हो जाता है।

शब्दप्रत्यय पुल्लिंगस्त्रीलिंग नपुंसकलिंग
बलमतुप्बलवान्बलवतीबलवत्
गुणमतुप्गुणवान्गुणवतीगुणवत्
रुपमतुप्रुपवान्रुपवतीरुपवत्
विचारमतुप्बिचारवान्विचारवतीविचारवत्
गन्धमतुप्गन्धवान्गन्धवतीगन्धवत्
विधुतमतुप्विधुतवान्विधुतवतीविधुतवत्
तड़ित्मतुप्तड़ित्वान्तड़ित्वतीतड़ित्वत्
क्रियामतुप्क्रियावान्क्रियावतीक्रियावत्
शीलमतुप्शीलवान्शीलवतीशीलवत्
रसमतुप्रसवान्रसवतीरसवत्
भाग्यमतुप्भाग्यवान्भाग्यवती भाग्यवत्
ज्ञानमतुप्ज्ञानवान्ज्ञानवती ज्ञानवत्
फलमतुप्फलवान्फलवतीफलवत्
घनमतुप्धनवान्धनवतीधनवत्

मतुप् प्रत्यय का वाक्य प्रयोग


मतुप् “ प्रत्यय युक्त शब्द और उसके साथ प्रयुक्त “विशेष्य ” शब्द में लिंग, वचन और विभक्ति में एक सामान होती है ।

1.अध्ययेन नरः गुणवान् भवति |

इस वाक्य में “नर:” पुल्लिंग एकवचन में है, अत: गुणवान्” भी पुल्लिंग एकवचन में प्रयुक्त हुआ है ।

2.धनवान् नर: दानेन शोभते ।

3.बुद्धिमान् मनुष्य: सर्वत्र सम्मानं लभते |

4.छायावन्तः वृक्षा: मार्गे पथिकेभ्यः आश्रयं यच्छन्ति|

5.पुरा एकः शक्तिमान् नृपः आसीत् |

6.तस्य नीतिमान् मन्त्री आसीत् ।

7.धनवान् मन्त्री विपुलं धनं अयच्छत् |

8.बुद्धिमती नारी विचारशीला भवति ।
“”
इस वाक्य में “ नारी ” स्त्रीलिंग एकवचन का शब्द है, इसलिए “ बुद्धिमती ” भी स्त्रीलिंग एकवचन है |

9.अयम् वृक्षः फलवान् अस्ति |

10.वीरा: अभ्युदये क्षमावन्तः भवन्ति ।

11.इयं कन्या गुणवती अस्ति |

Leave a Comment