Shru Dhatu Roop श्रु (सुनना) धातु रूप in Sanskrit

श्रु (सुनना) धातु रूप

स्पष्ट किया जाता है कि ‘श्रु’ धातु का अर्थ होता है – सुनना अर्थात् . यह धातु भवादिगण परस्मैपदी धातु है | आज हम इस लेख में ‘श्रु’ धातु के धातु-रूप के विषय में अध्ययन करेंगे | Shru Dhatu Roop पांचों लकारों में प्रस्तुत है ।


Shru Dhatu Roop ‘श्रु’ धातु का अर्थ


‘श्रु’ धातु का अर्थ होता है – सुनना अर्थात् किसी व्यक्ति के द्वारा कही हुई बात पर ध्यान देना |


लट् लकार वर्तमानकाल Present Tense

IMG 20240122 094356 Shru Dhatu Roop श्रु (सुनना) धातु रूप in Sanskrit

लृट् लकार भविष्यत् काल Future Tense

पुरुषएकवचनम्द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथमश्रोष्यतिश्रोष्यतःश्रोष्यन्ति
मध्यमश्रोष्यसिश्रोष्यथःश्रोष्यथ
उत्तमश्रोष्यामिश्रोष्यावःश्रोष्यामः

लोट् लकार आज्ञार्थ काल Imperative Tense

पुरुषएकवचनम्द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथमशृणोतुशृणुताम्शृण्वन्तु
मध्यमशृणुशृणुतम्शृणुत
उत्तमशृणवानिशृणवावशृणवाम

विधिलिङ् लकार चाहिए अर्थ में Potential Mood

पुरुषएकवचनम्द्विवचनम्बहुवचनम्
प्रथमशृणुयात्शृणुयाताम्शृणुयुः
मध्यमशृणुया:शृणुयातम्शृणुयात
उत्तमशृणुयाम्शृणुयावशृणुयाम

आशा करता हूँ कि आपको श्रु धातु (सुनना) के धातु रूप अच्छे से समझ में आ गए होंगे | इस धातु से संबंधित कुछ प्रश्न नीचे दिए गए है।

प्रश्नोत्तर

1. ‘श्रु’ धातु का मतलब क्या होता है ?

उत्तर:- ‘श्रु’ धातु का मतलब होता है ‘सुनना’ |

2. ‘शृण्वन्ति’ में कौन सा वचन है ?

उत्तर:- ‘शृण्वन्ति’ में लट् लकार प्रथम पुरुष का बहुवचन है ।

3. ‘शृणु’ में कौन सा लकार है ?

उत्तर:- ‘शृणु’ में ‘लोट् लकार’ है ।

4. ‘श्रु’ धातु के लङ् लकार के प्रथम पुरुष का बहुवचन क्या होगा ?

उत्तर:- अशृण्वन् |

5. ‘शृणुयात’ में कौन सा लकार है ?

उत्तर:- ‘शृणुयात’ में विधिलिंग लकार मध्यम पुरुष एकवचन है ।

6. ‘श्रु’ धातु लोट् लकार उत्तम पुरुष एकवचन का रूप क्या होगा ?

उत्तर:- ‘श्रु’ धातु लोट् लकार उत्तम पुरुष एकवचन में ‘शृणवानि’ होगा |


7. ‘श्रोष्यथ:’ में कौन सा लकार है ?

उत्तर:- ‘श्रोष्यथ:’ में लृट् लकार मध्यम पुरुष द्विवचन है ।

8. ‘शृणुयु:’ में कौन सा पुरुष है ?

उत्तर:- ‘शृणुयु:’ में ‘विधिलिङ् लकार प्रथम पुरुष बहुवचन’ है ।

9. ‘शृणुयातम्’ में कौन सा वचन है ?

उत्तर:- ‘शृणुयातम्’ में विधिलिङ् लकार मध्यम पुरुष का द्विवचन है |

10. ‘श्रु’ धातु के लङ् लकार के मध्यम पुरुष का एकवचन क्या होगा ?

उत्तर:- अशृणोः |

Leave a Comment