उत्तर प्रदेश सामान्य ज्ञान book

उत्तर प्रदेश सामान्य ज्ञान

  • उत्तर प्रदेश जनसंख्या के आधार पर भारत का सबसे बड़ा और क्षेत्रफल के आधार पर चौथा सबसे बड़ा राज्य है।
  • भारत में ब्रिटिश राज के समय अप्रैल 1937 में उत्तर प्रदेश का गठन संयुक्त प्रांत के नाम से किया गया था और आगे चलकर 24 जनवरी 1950 को इसका नाम संयुक्त प्रांत से बदलकर उत्तर प्रदेश’ कर दिया गया।
  • वर्ष 1858 तक इसकी राजधानी आगरा, 1858 से 1921 तक इलाहाबाद (वर्तमान प्रयागराज ) रही तथा 1921 में लखनऊ को उत्तर प्रदेश की राजधानी बनाया गया।
  • वर्ष 1921 में उत्तर प्रदेश में विधानपरिषद का गठन किया गया तथा विधानसभा का पहली बार गठन वर्ष 1937 में किया गया। विधानपरिषद के प्रथम सभापति श्री चंद्रभाल थे एवं विधान सभा के प्रथम अध्यक्ष पुरषोत्तम दास टंडन जी थे।
  • 9 नवंबर, 2000 को उत्तर प्रदेश का विभाजन किया गया और 13 जिलों को पृथक करके एक अलग राज्य उत्तरांचल (2007 में नाम बदलकर उत्तराखंड किया गया) बनाया गया।
  • भारत के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (National Capital Region) या NCR में उत्तर प्रदेश के 8 जिले (देश में सर्वाधिक ) सम्मिलित हैं, ये जिले हैं – मेरठ, गाज़ियाबाद, गौतम बुद्ध नगर, बुलंदशहर, हापुड़, बागपत, मुज़फ्फरनगर और शामली।
  • उत्तर प्रदेश का उच्च न्यायलय प्रयागराज में और खण्डपीठ लखनऊ में स्थित है।

उत्तर प्रदेश – राज्य प्रतीक

उत्तर प्रदेश का राजकीय चिह्न – एक वृत्त में 2 मछलियाँ तथा एक तीर धनुष (राजकीय चिह्न को 1938 में स्वीकृत किया गया)

  • उत्तर प्रदेश का राजकीय वृक्ष – अशोक
  • राजकीय पुष्प – पलास
  • राजकीय पशु – बारहसिंगा
  • राजकीय पक्षी- सारस या क्रौंच
  • भाषा हिंदी (1947 से ), द्वितीय राजभाषा उर्दू (1989 से)
  • राजकीय खेल- हॉकी
  • राजनीतिक प्रशासन- उत्तर प्रदेश विधानसभा में सदस्यों की कुल संख्या 404 है, जिसमें से 403 निर्वाचित सदस्य और 1 एंग्लो इंडियन सदस्य राज्यपाल द्वारा मनोनीत किया जाता है।
  • उत्तर प्रदेश विधानपरिषद में सदस्यों की कुल संख्या 100 है।
  • लोकसभा में उत्तर प्रदेश की 80 सीटें और राज्यसभा में 31 सीटे हैं।
  • सर्वाधिक विधानसभा सीट वाला जिला प्रयागराज (12 सीटें) है।

उत्तर प्रदेश महत्वपूर्ण तथ्य

  • उत्तर प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री गोविंद वल्लभ पंत थे
  • देश की पहली महिला मुख्यमंत्री के तौर पर सुचेता कृपलानी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद पर 1963 से 1967 तक रहीं।
  • देश की पहली महिला राज्यपाल के तौर पर सरोजनी नायडू ने 1947 से 1949 तक उत्तर प्रदेश के राज्यपाल के पद पर कार्य किया।
  • चौधरी चरण सिंह एवं विश्वनाथ प्रताप सिंह उत्तर प्रदेश के ऐसे दो मुख्यमंत्री हैं जो भारत के प्रधानमंत्री भी रह चुके हैं।
  • नारायण दत्त तिवारी एकमात्र ऐसे राजनेता रहे हैं जो उत्तर प्रदेश के अलावा उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के पद पर भी रह चुके हैं।
  • उत्तर प्रदेश विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष बनारसी दास एवं श्रीपति मिश्रा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं।
  • प्रदेश में सर्वाधिक बार मुख्यमंत्री मायावती ( 4 बार) बनीं हैं, सर्वाधिक बाट विधानसभा अध्यक्ष आत्माराम गोविंद खरे व केशरी नाथ त्रिपाठी (3-3 बार ) बने हैं।
  • उत्तर प्रदेश में अब तक कुल 10 बार राष्ट्रपति शासन लगाया गया है, पहली बार राज्य में राष्ट्रपति शासन 25 फरवरी 1968 से 25 फरवरी 1969 तक लगाया था।

उत्तर प्रदेश: प्रशासनिक इकाइयाँ

  • जिलों की संख्या 75
  • मंडलों की संख्या – 18 (18वां अलीगढ़)
    (आगरा, आजमगढ़, प्रयागराज, कानपुर, गोरखपुर, चित्रकूट, झांसी, देवीपाटन, अयोध्या, बस्ती, बरेली, मिर्जापुर, मुरादाबाद, मेरठ, लखनऊ, वाराणसी और सहारनपुर)सबसे छोटा मंडल सहारनपुर
  • ग्राम पंचायत 59073
  • नगर पंचायत 438
  • नगरपालिका परिषद – 193
  • नगर निगम – 17
  • नगर समूहों की संख्या – 915

उत्तर प्रदेश : भौगोलिक संरचना

  • विश्व मानचित्र पर उत्तर प्रदेश की अवस्थिति 23°52’3. अक्षांश से 30° 24′ उ. अक्षांश और 77°05 पूर्वी देशांतर से 84°39 ‘पूर्वी देशांतर के बीच है।
  • राज्य की पूर्व से पश्चिम तक की लंबाई 650 किलोमीटर और उत्तर से दक्षिण तक 240 किलोमीटर है।
  • उत्तर प्रदेश का क्षेत्रफल 2,40,928 वर्ग किलोमीटर है, जो कि भारत के क्षेत्रफल का लगभग 7.33 प्रतिशत है। क्षेत्रफल की दृष्टि उत्तर प्रदेश क्रमश: राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र के बाद चौथे स्थान पर है।
  • उत्तर प्रदेश का सबसे पूर्वी जिला बलिया, सबसे पश्चिमी जिला शामली, सबसे उत्तरी जिला सहारनपुर और सबसे दक्षिणी जिला सोनभद्र है।
  • राज्य के सर्वाधिक क्षेत्रफल वाले 4 जिले क्रमश: लखीमपुर खीरी, सोनभद्र, हरदोई और सीतापुर हैं।
  • राज्य के सबसे कम क्षेत्रफल वाले 4 जिले क्रमश: हापुड़, गाज़ियाबाद, भदोही व शामली हैं।पीलीभीत
  • उत्तर प्रदेश, एक मात्र देश नेपाल के साथ अंतरराष्ट्रीय सीमा बनाता है, राज्य के 7 जिले नेपाल की सीमा को स्पर्श करते हैं (पूर्व से पश्चिम जिले हैं – महाराजगंज, सिद्धार्थनगर, बलरामपुर, श्रावस्ती, बहराइच, लखीमपुर और पीलीभीत।
  • उत्तर प्रदेश 8 राज्य (हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, बिहार, उत्तराखंड, हरियाणा ) और एक केंद्र शासित प्रदेश (दिल्ली) से अपनी सीमा साझा करता है। इसमें से उत्तर प्रदेश के सबसे अधिक (11 जिले) मध्य प्रदेश को स्पर्श करते हैं, ये जिले हैं – झांसी, इटावा, ललितपुर, महोबा, बाँदा, चित्रकूट, प्रयागराज, मिर्जापुर, सोनभद्र, जालौन और आगरा।
  • उत्तर प्रदेश से सटी सबसे लंबी सीमा मध्य प्रदेश की और सबसे छोटी सीमा हिमाचल प्रदेश की है।
  • उत्तराखंड के साथ सीमा साझा करने वाले 7 जिलें हैं- सहारनपुर, मुज़फ्फर नगर, बिजनौर, मोरादाबाद, रामपुर, बरेली और ਧੀਲੀਮੀਰ
  • बिहार के साथ सीमा साझा करने वाले 7 जिले हैं- सोनभद्र, चंदौली, गाज़ीपुर, बलिया, देवरिया कुशीनगर और महाराजगंज।
  • हरियाणा के साथ सीमा साझा करने वाले 6 जिले हैं – सहारनपुर, शामली, बागपत, गौतम बुद्ध नगर, अलीगढ़ और मथुरा।
  • दिल्ली के साथ सीमा साझा करने वाले जिले हैं – गाज़ियाबाद और गौतम बुद्ध नगर।
  • राजस्थान के साथ सीमा साझा करने वाले जिले हैं- आगरा और मथुरा ।
  • झारखंड और छत्तीसगढ़ राज्य के साथ सीमा साझा करने वाला उत्तर प्रदेश का एक मात्र जिला सोनभद्र है।
  • सोनभद्र उत्तर प्रदेश का एक ऐसा जिला है जो चार राज्यों से अपनी सीमा साझा करता है जिनमें मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड और शामिल हैं।

उत्तर प्रदेश के भू-भाग को तीन विभागों में वर्गीकृत किया जा सकता है

1.तराई क्षेत्र :

2. मैदानी क्षेत्र या गंगा-यमुना का मैदानी दोआब

3. दक्षिण का पठारी क्षेत्र


भाबर क्षेत्र के समानान्तर रूप में विस्तृत समतल, नम एवं दलदली मैदान को तराई क्षेत्र कहा जाता है।
यह समस्त क्षेत्र उत्तर-पश्चिम में सहारनपुर से लेकर पूर्व में देवरिया तक विस्तृत है। इस क्षेत्र में धान और गन्ने की कृषि बड़े पैमाने पर की जाती है।

मैदानी क्षेत्र
उत्तर के भाबर तराई क्षेत्र और दक्षिण के पठारी क्षेत्र के मध्य क्षेत्र को मैदानी क्षेत्र या गंगा-यमुना का मैदानी दोआब कहा जाता है। इसका निर्माण गंगा और उसकी सहायक नदियों यमुना, गोमती, राम गंगा, घाघरा, शारदा, ताप्ती, गंडक आदि द्वारा बहाकर लाई गई काँप मिट्टी, कीचड़ एवं बालू से हुआ है।

  • नदियों द्वारा निक्षेपित तलछट मिट्टी तथा संरचना के आधार पर इस मैदान को दो उपभागों में विभाजित किया जा सकता है- बांगर क्षेत्र और खादर क्षेत्र
    बांगर क्षेत्र- इस क्षेत्र की भूमि ऊँची होती है अत: नदियों के बाढ़ का पानी नहीं पहुँच पाता है। बांगर क्षेत्र की उर्वरक क्षमता बहुत कम होती है, इसिलिए कृषि के लिए यह उपयोगी नही है ।
    खादर क्षेत्र – यह क्षेत्र नदियों द्वारा प्रतिवर्ष लाई गई नई मिट्टी की परतों के एकत्रित होने से बना है। यह क्षेत्र अधिक उपजाऊ और कृषि के लिए उपयोगी होता है।
    दक्षिणी पठारी क्षेत्र :
    उत्तर प्रदेश के दक्षिण का पठारी क्षेत्र प्रायद्वीपीय भारत का ही उत्तरी विस्तार है जिसे बुंदेलखण्ड के पठार के नाम से जाना जाता है। * इसके अंतर्गत ललितपुर, झांसी, जालौन, हमीरपुर, महोबा, बांदा, चित्रकूट, मिर्जापुर के गंगा क्षेत्र का दक्षिण भाग व सोनभद्र के
    कुछ भाग सम्मिलित हैं। यह प्राचीन पठार नीस चट्टानों से निर्मित है, इसलिए इसे बुंदेलखंड का नीस भी कहते हैं।

उत्तर प्रदेशः ऐतिहासिक पृष्ठभूमि

  • उत्तर प्रदेश का ज्ञात इतिहास लगभग 4000 वर्ष पुराना है, जब आर्यों का भारत में प्रवेश हुआ, इस समय वैदिक सभ्यता की शुरुआत हुई और उत्तर प्रदेश में इसका जन्म हुआ।
  • आर्यों का विस्तार सिन्धु नदी और सतलज के मैदानी भागों से यमुना और गंगा के मैदानी क्षेत्र की ओट हुआ, उन्होंने दोआब ( गंगा-यमुना का मैदानी भाग) और घाघरा नदी क्षेत्र को अपना घर बनाया।
  • संसार के प्राचीनतम शहरों में एक माना जाने वाला वाराणसी शहर उत्तर प्रदेश में स्थित है।
  • उत्तर पश्चिम से आने वाले आक्रमकों के मार्ग में पड़ने तथा दिल्ली और पटना के बीच उपजाऊ भूमि होने के कारण इसके इतिहास का उत्तर भारत के इतिहास से घनिष्ठ सम्बन्ध है।
  • प्राचीन काल में यह राज्य मध्य देश’ के नाम से विख्यात था तथा वैदिक काल में इसे ‘ब्रह्मर्षि देश’ के नाम से जाना जाता था। इस काल में उत्तर प्रदेश कई महान ऋषि-मुनियों जैसे- भारद्वाज, वशिष्ठ, विश्वामित्र, वाल्मीकि, याज्ञवल्क्य आदि की कर्म भूमि रही
    है।
  • छठवीं शताब्दी में उत्तरी भारत के 16 महाजनपदों में विभाजित क्षेत्र में से 8 वर्तमान उत्तर प्रदेश में स्थित हैं। ये महाजनपद हैं-
1.वत्स राजधानी – कौशाम्बी
2. काशी
राजधानी वाराणसी
3. कोसल
राजधानी श्रावस्ती
4. मल्ल
राजधानी – कुशीनगर
5. पांचाल
राजधानी अहिच्छत्र एवं काम्पिल्य
6. चेटि
राजधानी- शक्तिमती
7. शूरसेन राजधानी मथुरा
8. कुठ
राजधानी इन्द्रप्रस्थ
1.र्तमान क्षेत्र प्रयागराज
2.वर्तमान क्षेत्र वारणसी
3.वर्तमान क्षेत्र फैजाबाद
4.वर्तमान क्षेत्र – देवरिया, बस्ती, गोरखपुर
5.वर्तमान क्षेत्र – बरेली, बदायूँ, फर्रुखाबाद
6.वर्तमान क्षेत्र – बुंदेलखण्ड
7.वर्तमान क्षेत्र – मथुरा
8.वर्तमान क्षेत्र – मेरठ, थानेश्वर, दिल्ली

हिन्दू – बौद्ध काल सातवीं शताब्दी ई.पू. के अन्त से उत्तर प्रदेश का व्यवस्थित इतिहास आरंभ होता है। गौतम बुद्ध ने अपना पहला उपदेश वाराणसी के निकट सारनाथ में दिया तथा बौद्ध धर्म की नींव रखी जो न केवल भारत में, बल्कि चीन व जापान जैसे सुदूर देशों तक फैला। 483 ई.पू. में उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में गौतम बुद्ध को ‘महापरिनिर्वाण’ प्राप्त हुआ।
उत्तर प्रदेश पर शासन कर चुके महान शासकों में चन्द्रगुप्त प्रथम, अशोक, समुद्रगुप्त, चंद्रगुप्त द्वितीय शामिल हैं। इसके अतिरिक्त हर्षवर्धन ने कान्यकुब्ज (वर्तमान कन्नौज के निकट) को अपनी राजधानी बनाया।
कन्नौज पर आधिपत्य को लेकर दक्षिण के राष्ट्रकूट, पश्चिमी भारत के गुर्जर और बंगाल के पाल में कई वर्षों तक संघर्ष चला, जिसमें अंत में गुर्जर प्रतिहार सफल हुए।
मुस्लिम काल
इस क्षेत्र में 1000-1030 ई. तक मुस्लमानों का आगमन हो चुका था, किन्तु उत्तरी भारत में 12 वीं शताब्दी के अंतिम दशक के पश्चात मुस्लिम शासन स्थापित हुआ, जब मुहम्मद गौरी ने गढ़वालों (जिनका यहां शासन था) और अन्य प्रतिस्पर्धी वंशों को पराजित किया।

  • इसके पश्चात लगभग 650 वर्षों तक अधिकांश भारत की तरह उत्तर प्रदेश पर भी पहले दिल्ली सल्तनत और फिर मुगल वंश का शासन रहा, जिसका केंद्र दिल्ली या उसके आसपास का क्षेत्र था। 1506 में सिकंदर लोदी ने अपनी राजधानी दिल्ली से बदलकर आगरा को बनाया जो कि 1638 में शाहजहाँ द्वारा फिर से राजधानी दिल्ली स्थानांतरित करने तक मुगल शासन के समय भी साम्राज्य की राजधानी रही।
  • मुगल काल के दौरान अकबर ने आगरा के निकट 1569 में फतेहपुर सीकरी का निर्माण करवाया जो की 1571 से 1585 तक मुगलकाल की राजधानी भी रही। शाहजहाँ के द्वारा आगरा में वास्तुकला की दृष्टि से कई महत्वपूर्ण इमारतों का निर्माण
    करवाया गया।
    ब्रिटिश काल
    लगभग 75 वर्ष की अवधि में वर्तमान उत्तर प्रदेश के क्षेत्र का ईस्ट कम्पनी ने धीरे-धीरे अधिग्रहण किया।
    1856 ई. में ईस्ट इंडिया कम्पनी ने अवध पर पूर्ण रूप से अधिकार स्थापित कर लिया और इसे 1877 ई. में पश्चिमोत्तर प्रान्त में
    मिला लिया गया जिसके पश्चात इसका नाम उत्तर पश्चिमी प्रांत आगरा एवं अवध कर दिया गया। 1902 में इसका नाम बदलकर ‘आगरा एवं अवध का संयुक्त प्रांत कर दिया गया।
    1937 में इसका गठन ‘संयुक्त प्रांत’ के नाम से किया गया तथा 24 जनवरी 1950 को इसका नाम संयुक्त प्रांत से बदल कर उत्तर प्रदेश कर दिया गया।
    1880 के उत्तरार्ध में भारतीय राष्ट्रवाद के उदय के साथ संयुक्त प्रांत स्वतंत्रता आन्दोलन में अग्रणी रहा। प्रदेश में मोती लाला नेहरू, मदन मोहन मालवीय, जवाहरलाल नेहरू और पुरुषोत्तमदास टंडन जैसे राष्ट्रवादी राजनेताओं का जन्म हुआ। संयुक्त प्रांत मुस्लिम लीग की राजनीति का भी केंद्र रहा।
    स्वतंत्रता संग्राम में योगदान
    उत्तर प्रदेश की भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में अग्रणी भूमिका रही है। सन् 1857 में हुए प्रथम स्वतंत्रता आन्दोलन की शुरुआत उत्तर प्रदेश से ही हुई। यह विद्रोह 10 मई 1857 में मेरठ से शुरू हुआ, और कुछ ही समय में झांसी, काल्पी, कानपुर, लखनऊ, बिठूर, अवध, वाराणसी, बलिया एवं आजमगढ़ आदि स्थानों में फैल गया।
  • विद्रोह के परिणाम स्वरूप उत्तर प्रदेश में अनेक वीट स्वतंत्रता सेनानियों का उदय हुआ जिनमें झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, बिठूर के नाना साहब एवं तात्या टोपे उनके सहायक अजीमुल्ला खाँ, अवध की बेगम हज़रत महल, राणा बेनीमाधव एवं मौलवी में कुंवर सिंह जैसे प्रमुख व्यक्तित्व शामिल थे।
    अहमदुल्ला शाह और पूर्वी उत्तर प्रदेश
  • इसके अतिरिक्त असहयोग आंदोलन और सविनय अवज्ञा आंदोलन जैसे आंदोलन में भी प्रदेश का पूर्ण सहयोग भारत में देखने को मिला। 1925 में लखनऊ के निकट काकोरी षड्यंत्र को अंजाम दिया गया।
    विभाजन
    इसके अतिरिक्त ‘भारत छोड़ो आंदोलन में उत्तर प्रदेश सर्वाधिक प्रभावशाली राज्य के रूप में उभरकर सामने आया। प्रदेश के अधिकांश भागों में विशेषकर पूर्वी उत्तर प्रदेश के बलिया, आजमगढ़, बस्ती, मिर्जापुर, गोरखपुर, जौनपुर, बनारस आदि जिलों में इसकी व्यापकता काफी बढ़ गयी थी।
    उत्तर प्रदेश का इतिहास निश्चित रूप से भारतीय इतिहास का बहुत महत्वपूर्ण एवं अभिन्न हिस्सा है। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद भी भारतीय राजनीति में उत्तर प्रदेश का अहम योगदान रहा है। उत्तर प्रदेश ने ही भारत को सर्वाधिक (8) प्रधानमंत्री दिये हैं जिनमें जवाहर लाल नेहरू, लाल बहादुर शास्त्री, इंदिरा गाँधी, राजीव गाँधी, चौधरी चरण सिंह, वी. पी. सिंह, अटल बिहारी वाजपेयी आदि प्रमुख हैं।
    1990 के दशक में वर्तमान उत्तराखंड क्षेत्र में अपेक्षाकृत कम विकास को लेकर स्थानीय लोगों के द्वारा अलग राज्य की मांग को लेकर व्यापक आंदोलन छेड़ा गया । अन्ततः 9 नवम्बर 2000 को उत्तर प्रदेश से पृथक करके एक नए राज्य उत्तराखंड का गठन किया गया।

उत्तर प्रदेश सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी
उत्तर प्रदेश सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी PDF
उत्तर प्रदेश से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

उत्तर प्रदेश का इतिहास
उत्तर प्रदेश का भूगोल PDF
UP special GK Drishti IAS
उत्तर प्रदेश में कौन किस पद पर है
uttar pradesh general knowledge
uttar pradesh general knowledge book
uttar pradesh general knowledge pdf
uttar pradesh general knowledge arihant pdf in hindi
uttar pradesh general knowledge questions
uttar pradesh general knowledge pdf in hindi
uttar pradesh general knowledge pdf in english
uttar pradesh general knowledge in hindi
uttar pradesh general knowledge in english
uttar pradesh general knowledge questions and answers in hindi
uttar pradesh general knowledge arihant pdf in english
uttar pradesh ki general knowledge
best book for uttar pradesh general knowledge
उत्तरप्रदेश gk
उत्तर प्रदेश gk
उत्तर प्रदेश gk इन हिंदी
उत्तर प्रदेश gk pdf
uttar pradesh gk
uttar pradesh gk pdf
uttar pradesh gk book
uttar pradesh gk in english
uttar pradesh gk drishti
uttar pradesh gk question
uttar pradesh gk question in english
uttar pradesh gk 2023
uttar pradesh gk pdf in hindi download
uttar pradesh gk pdf in english
uttar pradesh gk syllabus
uttar pradesh gk in english with
answers
up सामान्य ज्ञान
up सामान्य ज्ञान book
उप सामान्य
up samanya gyan
up samanya gyan in hindi pdf
up samanya gyan pdf
up samanya gyan
up samanya gyan pdf
up samanya parichay
up samanya gyan 2023
up ka samanya gyan
up si samanya hindi pdf
up police samanya hindi
up board samanya hindi syllabus
up board samanya hindi class 12
up police constable samanya adhyan
उप सामान्य ज्ञान
up exam codes
up gk pdf in hindi
up gk in english
grade up gk tornado
up gk 2022
up gk pdf 2022
up gk in hindi pdf 2017
up gk in hindi 2021
up gk questions in hindi
up gk app
grade up gk digest
up gk quiz
up gk in english pdf
up gk pdf download in hindi
2021
best book for up gk in hindi
best book for up gk in
english
up gk mcq
up gk mock test
up gk hindi
up gk drishti ias in hindi
up gk notes
up gk quiz in hindi
up gk handwritten notes in
hindi pdf
ankit bhati up gk book
up gk 2022 in hindi
up gk pdf in english
up gk test
lucent up gk
up gk drishti ias
up gk rojgar with ankit
up gk questions in english
up gk book pdf download
up gk pdf download
up gk current affairs
up gk drishti ias pdf
up gk for uppsc
up gk 2017
up gk in hindi 2015
up gk gs
pdf up gk in hindi
up gk
up gk in hindi
up gk pdf
up gk in hindi 2022
up gk question answer in hindi
up gk pdf download in hindi
2022
up gk in hindi pdf
up gk book
up gk questions
up gk question
up gk book in hindi

Leave a Comment