प्यासी मैना

यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठ पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ में हम पढ़ेंगे प्यासी मैना की कहानी | एक थी मैना। वह नीम के खोखल में रहती थी। नीम का पेड़ बगीचे में था। बगीचे में एक नल लगा था।मैना रोज बगीचे में दाना चुगती और नल के … Read more

जीवों में जनन – Jeevo Me Janan

किसी जीव के जन्म से लेकर उसकी प्राकृतिक मृत्यु तक अवधि का उस जीव का जीवनकाल कहते हैं। प्रत्येक जीव केवल कुछ निश्चित समय तक ही जीवित रह सकता है। जीव के जन्म से उसकी प्राकृतिक मृत्यु तक का यह काल, उस जीव की जीवन अवधि को निरूपित करता है। क्या यह दोनों बातें रोचक … Read more

मानव जनन (Human Reproduction)

जैसा कि आप जानते हैं मानव लैंगिक रूप से जनन करने वाला और सजीव प्रजक या जरायुज प्राणी है। मानवों में जनन घटना के अंतर्गत युग्मकों की रचना ( युग्मकजनन) अर्थात् पुरुष में शुक्राणुओं तथा स्त्री में अंडाणु का बनना, स्त्री जनन पथ में शुक्राणुओं का स्थानांतरण पुरुष तथा स्त्री के युग्मकों का संलयन (निषेचन … Read more

नियंत्रण एवं समन्वय (Control and coordination )

पिछले अध्याय हमने सजीवों में अनुरक्षण (अथवा रख-रखाव ) कार्य में संलग्न जैव प्रक्रमों के बारे में पढ़ा था। हमने इस बात पर विचार करना प्रारंभ किया था कि यदि कोई वस्तु गतिशील है तो वह सजीव है। पादपों में इस तरह की कुछ गतियाँ वास्तव में वृद्धि का परिणाम हैं। एक बीज अंकुरित होता … Read more

छंद chhand

छन्द का अर्थ एवं परिभाषा ‘छन्द’ शब्द की उत्पत्ति ‘छिदि धातु से हुई है, जिसका अर्थ है- ढकना अथवा आच्छादित करना। छन्द उस पद-रचना को कहते हैं, जिसमें अक्षर, अक्षरों की संख्या एवं क्रम, मात्रा, मात्रा की गणना के साथ-साथ यति (विराम) एवं गति से सम्बद्ध नियमों का पालन किया गया हो। छन्द के अंग … Read more

रस – Ras in hindi

रस का अर्थ रस का शाब्दिक अर्थ आनन्द है। संस्कृत में वर्णन आया है-‘रस्यते आस्वाद्यते इति रस: अर्थात् जिसका आस्वादन किया जाए, वह रस है, किन्तु साहित्यशास्त्र में काव्यानन्द अथवा काव्यास्वाद के लिए रस शब्द प्रयुक्त होता है।काव्य को पढ़ने, सुनने अथवा नाटक देखने से सहृदय पाठक, श्रोता अथवा दर्शक को प्राप्त होने वाला विशेष … Read more

शिक्षण अधिगम के प्रमुख अभिकरण – शिक्षा विज्ञान

(Main Agencies of TeachingLearning) शिक्षण अधिगम के प्रमुख अभिकरण शिक्षण का अर्थ है किसी ज्ञान को सिखाना एवं शिक्षण अधिगम का संयुक्त अर्थ है कि उचित शिक्षण किस प्रकार किया जाए अर्थात शिक्षण से संबंधित नियम तथा शिक्षण के सिद्धांत; और शिक्षण अधिगम के अभिकरण से तात्पर्य है कि शिक्षण प्रक्रिया को सुचारु रूप से … Read more

स्वतंत्रता एवं समानता अध्याय -2(LIBERTY AND EQUALITY)

स्वतंत्रता किसी अन्य व्यक्ति की प्राप्ति का साधन नहीं वरना सर्वोच्च साथ है| डॉ. राधाकृष्णन स्वतंत्रता की आवश्यकता है या उसका महत्व- मनुष्य के व्यक्तित्व के विकास के लिए अधिकारों का अस्तित्व नितान्त आवश्यक है और व्यक्ति के विविध अधिकारों में स्वतन्त्रता का स्थान निश्चित रूप में सबसे अधिक महत्वपूर्ण है। बर्ट्रेण्ड रसैल कहते हैं … Read more

अलंकार Alankar

अलंकार का अर्थ एवं परिभाषा प्रसिद्ध संस्कृत आचार्य दण्डी ने अपनी रचना ‘काव्यादर्श’ में अलंकार को परिभाषित करते हुए लिखा है-‘अलंकरोतीति अलंकार:’ अर्थात् शोभाकारक पदार्थ को अलंकार कहते हैं। हिन्दी में रीतिकालीन कवि आचार्य केशवदास ने ‘कविप्रिया’ रचना में अलंकार की विशेषताओं का विवेचन प्रस्तुत किया है। वस्तुतः भाषा को शब्द एवं शब्द के अर्थ … Read more

राज्यों के कार्यों के सिद्धांत अध्याय-2 THEORIES OF THE FUNCTIONS OF STATES CHAPTER-2

कौटिल्य के अनुसार राज्य का कार्य क्षेत्र आती विस्तृत होना चाहिए प्रजा को सुशिक्षित करने समृद्ध बनाने और उसके हित संपादन हेतु राज्य द्वारा सभी संभव प्रयत्न किए जाने चाहिए| एन.सी. बंधोपाध्याय राज शब्द है या साधन- नागरिक शास्त्र के अध्ययन में यह प्रश्न बहुत अधिक विवादग्रस्त रहा है कि राज्य अपने आप में साध्य … Read more

Balak ke Roop. बालक शब्द का रूप

बालक शब्द : अकारांत पुल्लिंग संज्ञा, सभी पुल्लिंग संज्ञाओ के रूप इसी प्रकार बनाते है जैसे -देव, बालक, राम,मोहन, सोहन,वृक्ष, सूर्य, सुर, असुर, मानव, अश्व, गज, ब्राह्मण, क्षत्रिय, शूद्र, छात्र, शिष्य, दिवस, लोक, ईश्वर, भक्त आदि बालक के शब्द रूप – Balak Shabd Roop Balak Shabd Roop In Sanskrit: विभक्ति एकवचन द्विवचन बहुवचन प्रथमा बालकः … Read more

बाल गंगाधर तिलक पाठ -11 Bal Gangadhar Tilak chapter-11

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठ पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ में हम पढ़ेंगे बाल गंगाधर तिलक (जीवनी) एक बार अध्यापक ने कक्षा में छात्रों को गणितके कुछ प्रश्न हल करने के लिए दिए। कक्षा के सभी छात्र तल्लीन होकर अपना कार्य कर … Read more

ग्राम श्री पाठ -9 gram Shri chapter-9

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठ पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ में हम पढ़ेंगे -ग्राम श्री ( कविता) 2-नीचे बाई ओर कविता की कुछ पंक्तियां लिखी गई है दाएं और उनसे संबंधित भाव व्यक्त करने वाली पंक्तियां गलत क्रम में लिखी गई है … Read more

कहां रहेगी चिड़िया पाठ-5 kahan rahegi chidiya chapter-5

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठ पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ में हम पढ़ेंगे कहां रहेगी चिड़िया-कविता | आँधी आई जोर-शोर से, डालें टूटी हैं झकोर से।उड़ा घोंसला, अंडे फूटे,किससे दुःख की बात कहेगी!अब यह चिड़िया कहाँ रहेगी ? पंक्ति का भावार्थ-कविता के … Read more

जब मैं पढ़ता था पाठ -3 jab main padhta tha chapter- 3

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठ पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ में हम पढ़ेंगे जब मैं पढ़ता था कहानी | मेरे पिता करमचंद गांधी राजकोट के दीवान थे । वे सत्यप्रिय, साहसी और उदार व्यक्ति थे। वे सदान्याय करते थे।मेरी माता जी का … Read more

भक्ति नीति माधुरी पाठ-12 bhakti neet Madhuri chapter- 12

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठ पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ में हम पढ़ेंगे भक्ति गीत माधुरी दोहा– कबीर साँच बराबर तप नहीं, झूठ बराबर पाप । जाके हिरदै साँच है, ताके हिरदै आप ।। वृच्छ कबहुँ नहिं फल भखै, नदी न संचै … Read more

सत्यवादी हरिश्चंद्र satyavadi Harishchandra

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक भारत वर्ष में ऐसे अनेक महान व्यक्तित्व हुए हैं जिन्होंने अपने जीवन आदर्शों से संपूर्ण मानवता के समक्ष अनुकरणीय उदाहरण प्रस्तुत किए हैं। ऐसे ही एक महान व्यक्तित्व थे राजा हरिश्चंद्र । वह अपनी प्रजा में सत्यवादिता, दान और परोपकार जैसे गुणों के लिए प्रसिद्ध थे। उनकी पत्नी तारामती … Read more

हौसला पाठ -13 Hosala chapter -13

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठ पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ में हम पढ़ेंगे हौसला पाठ 13 जुलाई का दूसरा सप्ताह । पंद्रह जुलाई सन् उन्नीस सौ उन्यासी। अपनी माँ के साथ हमारी कक्षा में एक बच्चा आया । उसका उसी दिन दाखिला … Read more

ओणम पाठ -14 Onam chapter,- 14

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठय पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ पढ़ेंगे ओणम प्रमुख त्योहार – भारत को ‘त्योहारों का देश’ कहा जाता है। यहाँ वर्ष भर त्योहारों की धूम रहती है। ये त्योहार जन-जीवन में चेतना, उत्साह और एकता का संचार करते … Read more

वीर अभिमन्यु अध्याय-15 Veer Abhimanyu chapter -15

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठय पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ पढ़ेंगे वीर अभिमन्यु महाभारत का युद्ध चल रहा था। महाराज युधिष्ठिर के लिए यह दुविधा से भरा समय था, जिसमें वह कोई निर्णय नहीं ले पा रहे थे। कौरवों के सेनापति गुरु … Read more

बच्चो का पूछताछ केंद्र अध्याय -16 bachchon ka poochhtaachh Kendra chapter-16

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठय पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ पढ़ेंगे बच्चो का पूछताछ केंद्र – सड़क के नुक्कड़ पर लकड़ी की एक छोटी-सी दुकान थी। उस पर पूछताछ केंद्र लिखा हुआ था। पूछताछ केंद्र में एक महिला बैठती थी। वह लोगों … Read more

टेसू राजा अध्याय -17 tesu Raja chapter -17

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठय पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ पढ़ेंगे टेसू राजा (कविता)- टेसू राजा अड़े खड़े माँग रहे हैं दही बड़े ।बड़े कहाँ से लाऊँ मैं, पहले खेत खुदाऊँ मैं,उसमें उड़द उगाऊँ मैं,फसल काट घर लाऊँ मैं । छान फटक रखवाऊँ … Read more

मोहम्मद साहब अध्याय -18 Mohammed Sahab chapter-18

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठय पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ पढ़ेंगे (मोहम्मद साहब) हजरत मोहम्मद साहब का जन्म अरब के प्रसिद्ध नगर मक्का में हुआ था। उनकी माता का नाम आमिना तथा पिता का नाम अब्दुल्लाह था। जन्म से दो माह पूर्व … Read more

श्रुति की समझदारी अध्याय -19 Shruti ki samajhdari chapter -19

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठय पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ पढ़ेंगे (श्रुति की समझदारी ) श्रुति अपनी कक्षा की मेधावी छात्रा थी। वह हमेशा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण होती थी। उसके पिता पुलिस विभाग में अधिकारी थे। सरकारी आवास न मिल पाने … Read more

चाचा का पत्र अध्याय -20 chacha ka Patra chapter-20

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठय पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ पढ़ेंगे (चाचा का पत्र) मेरे प्यारे बच्चों ! मुझे तुम्हारे साथ रहना, तुम्हारे साथ हँसना-बोलना और तुम्हारे साथ खेलना बहुत पसंद है। मैं जब भी तुम्हें देखता हूँ, अपना बुढ़ापा भूल जाता हूँ। … Read more

सबसे उजला अध्याय -21 sabse ujala chapter- 21

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठय पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ पढ़ेंगे(सबसे उजला) सम्राट अकबर का दरबार लगा हुआ था। दरबार के आवश्यक कार्यों को पूर्ण करने के बाद अकबर ने दरबारियों से प्रश्न किया, “क्या आप बता सकते हैं कि दुनिया में … Read more

बोलने वाली गुफा-पाठ-4 bolane wali gufa chapter 4

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठ पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ में हम पढ़ेंगे बोलने वाली गुफा| (पंचतंत्र की कथा) सुंदरवन में एक खूँखार शेर रहता था। वह वन के सभी जीवों के लिए मुसीबत था। जंगल के जानवर उससे इतना डरते थे … Read more

हाँ में हाँ पाठ-6 han main han chapter-6

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठ पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ में हम पढ़ेंगे हाँ में हाँ-(बुंदेलखंड की एक लोक कथा)–एक राजा थे। राज-काज से थक गए थे। एक दिन दरबार में मंत्री से बोले- “मंत्री जी,सोचता हूँ, हम लोग गंगा-स्नान कर आएँ … Read more

मलेथा की गूल पाठ-7 maletha ki Gul chapter -7

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठ पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ में हम पढ़ेंगे मलेथा की गूल (कहानी) – मध्य गढ़वाल की घाटियों में एक गाँव है – मलेथा । गाँव के दक्षिण-पश्चिम की ओर पहाड़ की एक श्रृंखला अलकनंदा नदी तक चली … Read more

टोकरी में क्या है? पाठ-8 tokri mein kya hai chapter- 8

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठ पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ में हम पढ़ेंगे टोकरी में क्या है (कहानी)

UP Board of High School & Intermediate Education Class 4-chapter 1-फुलवारी

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक भावार्थ –  कवि ने ईश्वर की प्रसंशा करते हुए कहता है कि हे प्रभु ! आपके प्रकाश, सूर्य बनकर पूरे संसार को प्रकाशित कर रहा है, और आपका यश, श्वेत प्रकाश की किरणों के रूप में चारों तरफ फैल रहा है? भावार्थ – कवि ने ईश्वर का गुणगान करते … Read more

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक

पाठ विषय सूची 1. हे जग के स्वामी 2. प्यासी मैना 3. बोलने वाली गुफा 4. बोलने वाली गुफा 5. कहां रहेगी चिड़िया 6. हाँ में हाँ 7. मलेथा की गूल 8. टोकरी में क्या है? 9. ग्राम श्री 10. नन्ही राजकुमारी और चंद्रमा 11. बाल गंगाधर तिलक 12. भक्ति नीति माधुरी 13. हौसला 14. … Read more

नन्ही राजकुमारी और चंद्रमा पाठ -10 nanhi Rajkumari aur chandrama chapter-10

फुलवारी कक्षा-4 की हिंदी पाठ्य पुस्तक यह अध्याय प्राइमरी पाठशाला कक्षा 4 की हिंदी पाठ पुस्तक फुलवारी से लिया गया है इस पाठ में हम पढ़ेंगे नन्ही राजकुमारी और चंद्रमा बहुत पुरानी बात है, समुद्र किनारे एक नन्हीं-सी राजकुमारी रहती थी। एक दिन उसने इतनी चटनी खा ली कि बीमार हो गई। डॉक्टर ने भी … Read more